ग्वालियर

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
रैरा का पंजीयन क्रमांक दस्तावेज में
अब किसी भी संपत्ति की रजिस्ट्री कराने के लिए उत्पादनकर्ता को रैरा का पंजीयन क्रमांक लेना होगा। तभी वह किसी भी संपत्ति की रजिस्ट्री कर सकेगा। हर रजिस्ट्री में यह पंजीयन क्रमांक दस्तावेज पर डाला जाएगा। इस संबंध में महानिरीक्षक पंजीयन ने सभी जिला पंजीयकों को आदेश दिए हैं, जिसमें उल्लेख किया गया है कि मप्र भू-संपदा विनियामक प्राधिकरण से प्राप्त जानकारी के अनुसार केंद्र सरकार द्वारा 26 मार्च 2016 को रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवलपमेंट एक्ट लागू कर दिया है।
ग्वालियर डीबी स्टार

मप्र में रैरा लागू होने के बाद माधव प्लाजा स्थित रजिस्ट्रार कार्यालय मे रजिस्ट्री का ग्राफ अचानक गिर गया। इस कारण सब रजिस्ट्रार ऑफिस में हर रोज होने वाली लगभग 300 रजिस्ट्री की संख्या केवल 10 से 15 रह गई है। यह भी वह रजिस्ट्री हैं, जो री-सेल या कृषि भूमि वाली हैं। रजिस्ट्रार कार्यालय के अफसर व स्टाफ द्वारा बिल्डरों से रैरा का पंजीयन मांगे जाने के साथ काफी नियम बता रहे हैं। इस कारण सर्विस प्रोवाइडर भी रजिस्ट्री नहीं करा पा रहे हैं। हाल यह है कि फॉर्म-4, कच्ची कॉलोनी, हाईराइज बिल्डिंग, मल्टीप्लेक्स की रजिस्ट्री होना बंद गई है। जिन बिल्डरों पर पूरे कागजात व लाइसेंस हैं, उनसे रिश्वत की रकम बढ़ाने के लिए स्टाफ अड़चन डाल रहा है। डीबी स्टार ने इस मामले में जिला पंजीयक दिनेश गौतम से बात की, तो वे शीघ्र समस्या का समाधान होने की बात कहने लगे।

रजिस्ट्री कराने के लिए इंतजार करते क्रेता-विक्रेता।

हुजरात रोड स्थित माधव प्लाजा में है रजिस्ट्रार कार्यालय।

रजिस्ट्री बंद हो गई है
 रैरा के नए सर्कुलर के कारण रजिस्ट्री बंद हो गई हैं। सिर्फ कृषि भूमि व री-सेल की रजिस्ट्री हो रही है। उसमें भी दिक्कत आ रही है, क्योंकि अफसर अवकाश पर चले गए हैं। दिनभर में सिर्फ 15-20 रजिस्ट्री ही हो पा रही हैं। स्टाफ हर रोज रैरा के बहाने केस में नई-नई दिक्कतें पैदा कर रहे है। वह चाहते हैं कि किसी भी तरह रिश्वत का परसेंटेज बढ़ जाए।  मुन्नालाल, सर्विस प्रोवाइडर (परिवर्तित नाम)

मैं अभी अवकाश पर हूं
मैं अभी अवकाश पर हूं, इसलिए इस मामले में आपसे बात नहीं कर सकता। रजिस्ट्रार कार्यालय में कार्य क्यों नहीं हो रहा है, इस बारे में मुझे न तो कुछ पता है और न ही मैं आपसे कुछ कह सकंूगा। आप मेरे अिधकारियों से इस बारे में बात करें।  केएस रावत, वरिष्ठ जिला पंजीयक

नियमों में कन्फ्यूजन के चलते कार्य हो रहा प्रभावित
खबरें और भी हैं...