• Hindi News
  • Mp
  • Gwalior
  • रिकॉर्डेड नहीं, कलाकार खुद बोलेंगे डायलॉग
--Advertisement--

रिकॉर्डेड नहीं, कलाकार खुद बोलेंगे डायलॉग

Gwalior News - संस्कृत भाषा को बढ़ावा देने के लिए प्रदेश सरकार के संस्कृति विभाग ने पहल की है। विभाग इस बार प्रदेश में उन नाट्य...

Dainik Bhaskar

Oct 01, 2017, 05:25 AM IST
रिकॉर्डेड नहीं, कलाकार खुद बोलेंगे डायलॉग
संस्कृत भाषा को बढ़ावा देने के लिए प्रदेश सरकार के संस्कृति विभाग ने पहल की है। विभाग इस बार प्रदेश में उन नाट्य संस्थाओं को मंच प्रदान करेगा, जो संस्कृत नाट्य से जुड़ी हुई हैं। इन संस्थाओं को प्रदेश में होने वाले भवभूति और कालिदास समारोह में प्रस्तुति देने का अवसर मिलेगा। यही वजह है कि नए कलाकार इस ओर प्रेरित होंगे। कालिदास समारोह उज्जैन में और भवभूति समारोह ग्वालियर में होगा। साथ ही इस बार संस्कृत नाट्य महोत्सव का आयोजन भी किया जाएगा। विभाग की मंशा इन समारोह के जरिए संस्कृत को बढ़ावा देना है।

कलाकारों को खुद ही बोलने पड़ेंगे डायलॉग

कला समूह अभी तक भवभूति समारोह के अंतर्गत मालतीमाधवं नाटक को एक ही तरीके से प्रस्तुत करता आया है। लेकिन इस बार चार नए प्रयोग देखने को मिलेंगे। कलासमूह के सह निर्देशक राघवेंद्र ने बताया कि नाटक में अब रिकॉर्डेड डायलॉग पर मंचन नहीं होगा, बल्कि कलाकार खुद डायलॉग बोलकर अपना रोल करेंगे। नाटक का बैकग्राउंड भी चेंज होता रहेगा। इसमें मॉड्यूलेशन और एक्शन में भी बदलाव होंगे। इसको लेकर तैयारी शुरू कर दी गई हैं।

इसलिए उठाया कदम

शहर ही नहीं अपितु प्रदेश में संस्कृत नाट्य संस्थाएं कम हैं। इसलिए युवा संस्कृत से दूर होते जा रहे हैं। उनका रुझान फिल्मों और टीवी सीरियलों की ओर बढ़ रहा है। यही वजह है कि संस्कृति विभाग संस्कृत नाट्य महोत्सव का आयोजन करने जा रहा है। यह नाटक भोपाल या ग्वालियर किसी एक स्थान पर होगा। अभी इसका फाइनल शेड्यूल जारी नहीं किया गया है।

Upcoming Event

X
रिकॉर्डेड नहीं, कलाकार खुद बोलेंगे डायलॉग
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..