जिपं सदस्य का अपहरण, बचाने गए भतीजे की गोली मारकर हत्या

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
मुरैना (ग्वालियर) . जिला पंचायत सदस्य जगदीश टैगोर (वार्ड नं. 13) का शनिवार की रात 8 बजे बोलेरो से आए 8-10 हथियारबंद बदमाशों ने अपहरण कर लिया। अपहरण के दौरान विरोध करने पर बदमाशों ने फायरिंग की जिससे श्री टैगोर के भतीजे विनय को एक गोली लगी, जिससे उसकी मौत हो गई। वारदात के पीछे कारण जिला पंचायत अध्यक्ष के खिलाफ लाए जाने वाले अविश्वास प्रस्ताव को माना जा रहा है। कोतवाली पुलिस ने  मामला दर्ज कर लिया है। जानकारी के मुताबिक शनिवार शाम करीब 7.30 बजे एक बोलेरो में सवार होकर 8-10 लोग गोपालपुरा स्थित वीडियो गली में पहुंचे।  
 
जिपं सदस्य का अपहरण, बचाने गए भतीजे की गोली मारकर हत्या
- वे जिला पंचायत सदस्य जगदीश टैगोर को अपने साथ लाए थे और उनके घर पर छोड़ दिया। आधा घंटे बाद इन हथियारबंद लोगों ने जगदीश से कहा कि वह उनके साथ चलें। जगदीश ने कहा कि उनकी चाची का देहांत हुए चार दिन ही हुए हैं। अब वे उनकी तेरहवीं तक कहीं नहीं जाएंगे।
- यह सुनकर बदमाश उन्हें ले जाने लगे। इस पर परिजन ने विरोध किया तो बदमाशों ने जगदीश के साथ मारपीट की और दहशत फैलाने के लिए बंदूकों से आठ से दस राउंड फायर किए। इसी दौरान एक गोली जगदीश के भतीजे विनय पुत्र रमेशचंद टैगोर (20) के सिर में लगी। उसे गंभीर स्थिति में ग्वालियर लाया गया, जहां उसकी मौत हो गई।
- कुछ दिन पहले से जिपं सदस्य को साथ लिए घूम रहे थे बदमाश : कोतवाली टीआई योगेश सिंह जादौन का कहना है कि आरोपीगण जिला पंचायत सदस्य जगदीश टैगोर को 5-7 दिन पहले से अपने साथ लेकर इधर-उधर घूम रहे हैं।
- शनिवार को वे अपने साथ मुरैना लाए थे। इस मामले में जिला पंचायत सदस्यों का कहना है कि अध्यक्ष पद के लिए अविश्वास प्रस्ताव लाने की तैयारियों के दौरान जिला पंचायत सदस्यों को अगवा कर अपने-अपने कब्जे में लिया जा रहा है। यह घटना इसी के चलते हुई।
 
अविश्वास प्रस्ताव की चर्चा  
- जिला पंचायत अध्यक्ष के कार्यकाल को ढाई साल हो चुके हैं। लोगों में चर्चा है कि उनके खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव आ सकता है। वोटो का समीकरण बनाने को इस घटना से जोड़ा जा रहा है। हालांकि कोई इसकी पुष्टि नहीं कर रहा है।
खबरें और भी हैं...