बेटे को गठरी में बांध हॉस्पिटल पहुंचा मजबूर पिता,100 रुपए की वजह से हुआ ऐसा / बेटे को गठरी में बांध हॉस्पिटल पहुंचा मजबूर पिता,100 रुपए की वजह से हुआ ऐसा

चोरी न हो जाए स्ट्रेचर इसलिए बना रखा है 100 रुपए जमा कराने का बेतुका नियम

bhaskar News

Jun 15, 2017, 03:59 AM IST
स्ट्रेचर नहीं मिलने पर प्लास्टिक की बोरी सिलकर बनाई फट्‌टी में गठरी की तरह बांधा घायल को, कराया भर्ती। -फोटो : भास्कर स्ट्रेचर नहीं मिलने पर प्लास्टिक की बोरी सिलकर बनाई फट्‌टी में गठरी की तरह बांधा घायल को, कराया भर्ती। -फोटो : भास्कर
ग्वालियर. अंचल के सबसे बड़े अस्पताल जेएएच के ट्रॉमा सेंटर में घायल बेटे को भर्ती कराने पहुंचे पिता को स्ट्रेचर न मिलने से बेटे को फट्टी (प्लास्टिक की बोरियों को सिलकर बनी) में बांधकर भर्ती के लिए ले जाना पड़ा।
-सालाना 9 करोड़ के बजट वाले जेएएच में बुधवार को यह शर्मनाक वाकया इसलिए हुआ कि घायल युवक के पिता कैलाश सिंह निवासी कौंथर मुरैना के पास स्ट्रेचर के बदले जमा कराने के लिए 100 रुपए नहीं थे।
-कौंथर निवासी मुकेश (30) का दिमागी बुखार के कारण मानसिक संतुलन गड़बड़ा गया था। घर वाले उसे इलाज के लिए ग्वालियर ला रहे थे तभी सुबह शौच जाते समय कुएं में गिरने से वह घायल हो गया।
-उसे पहले मुरैना जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। हालत गंभीर होने पर जेएएच भेजा गया था।
बतौर गारंटी लेते हैं रुपए
-अापका मरीज चलने में असमर्थ है, उसके लिए स्ट्रेचर चाहिए तो 100 रुपए जमा कराना होंगे। कैलाश के साथ भी यही हुआ।
-उन्होंने स्ट्रेचर की तलाश की तो गार्ड ने कहा- कैजुअल्टी से ले आओ। वह कैजुअल्टी पहुंचे तो कर्मचारी बोला 100 रुपए जमा कराओ जब स्ट्रेचर लौटाने आओगे तो 100 रुपए वापस ले जाना।
-कैलाश बोले, मेरे पास 10 रुपए भी नहीं हैं, 100 रुपए कहां से लाऊं?
डॉक्टर ने लिखा तब बना फ्री पर्चा
भर्ती का पर्चा बनवाने के लिए भी कैलाश से 100 रुपए जमा कराने को कहा गया। उन्होंने लाचारी जताई तो कर्मचारी बोला- सीएमओ से लिखवा लाओ। कैलाश फिर ट्रॉमा पहुंचे और डॉक्टर ने पर्चे पर फ्री लिखकर दिया तब जाकर भर्ती का पर्चा बना।
मेरे पास पैसे नहीं थे, ऐेसे में क्या करता
स्ट्रेचर के लिए 100 रुपए जमा कराने को कहा था। मेरे पास पैसे नहीं थे। ऐसे में क्या करता? मजबूरन फट्टी में बांधकर बेटे को ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराना पड़ा। मेरे पास दीनदयाल कार्ड है जो भूल आया था।
कैलाश सिंह, घायल युवक के पिता
स्ट्रेचर गुम न हो इसलिए की यह व्यवस्था
कई बार परिजन स्ट्रेचर लौटाने नहीं आते हैं। कई बार गायब भी हो जाते हैं। इसलिए 100 रुपए जमा कराते हैं। अगर किसी गरीब से पैसे मांगे गए हैं तो गंभीर मामला है। इसकी जांच कराऊंगा।
डॉ. जितेंद्र नरवरिया, सहायक अधीक्षक
भास्कर सवाल
स्ट्रेचर के लिए स्टॉफ रहता है। जेएएच में सुरक्षा गार्ड भी हैं। ऐसे में उसका गायब हो जाने का तर्क अपने आप में हास्यास्पद है। सवाल यह भी है कि अपने ही मरीज के लिए स्ट्रेचर का उपयोग करने वाले परिजन को क्या जेएएच प्रबंधन चोर समझता है?
आगे की स्लाइड्स में देखें,फोटो...
Bundle in son Father to hospital
Bundle in son Father to hospital
Bundle in son Father to hospital
X
स्ट्रेचर नहीं मिलने पर प्लास्टिक की बोरी सिलकर बनाई फट्‌टी में गठरी की तरह बांधा घायल को, कराया भर्ती। -फोटो : भास्करस्ट्रेचर नहीं मिलने पर प्लास्टिक की बोरी सिलकर बनाई फट्‌टी में गठरी की तरह बांधा घायल को, कराया भर्ती। -फोटो : भास्कर
Bundle in son Father to hospital
Bundle in son Father to hospital
Bundle in son Father to hospital
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना