पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सीजन का सबसे गर्म रहा दिन, पारा पहुंचा 45.5 डिग्री सेल्सियस

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
ग्वालियर. महानगर में रविवार को इस सीजन का सबसे अधिक तापमान 45.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। गर्मी के कारण लोग बेहाल थे। मई के पहले सप्ताह में ही सूरज के तेवर तीखे हो गए हैं। रविवार को भीषण गर्मी से लोगों के चेहरे लाल हो गए। गर्म हवा सुबह 8 बजे से ही चलने लगी। गर्मी का आलम यह था कि सुबह 9.30 बजे ही पारा 40.8 डिग्री पर पहुंच गया। शाम 5:30 बजे तक 43.4 डिग्री सेल्सियस पारा बना रहा। जबकि रात तक गर्म हवा चलने का सिलसिला जारी रहा। गर्मी व लू के चलते दोपहर में सड़को पर सन्नाटा पसरा रहा। हालांकि दिन में हल्के बिखरे-बिखरे बादल भी छाए रहे लेकिन बादल पारे की रफ्तार पर ब्रेक नहीं लगा सके।
 
पारा बढ़ते ही एसी व कूलर हुए फेल, टंकियों का उबला पानी: रविवार को सुबह 9.30 बजे  से शाम 5.30 बजे तक 40.8 डिग्री सेल्सियस के पार पारा दर्ज किया गया। पारा बढ़ते ही एसी व कूलर ने ठंडी हवा देना कम कर दिया है। रविवार को अधिकतम तापमान 45.5 डिग्री दर्ज किया गया। यह सामान्य से 4.1 डि.से. अधिक रहा। न्यूनतम तापमान 25.5 डिग्री दर्ज किया गया। यह सामान्य से 0.1 डिग्री कम रहा।  
 
 
गर्मी से बचाव के लिए क्या करें 
जीआरएमसी के मेडिसिन विभाग के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. अजय पाल सिंह के मुताबिक, पानी पीकर ही बाहर जाएं। हल्के रंग के कपड़े व धूप का चश्मा पहनें। शरीर को ढंककर रखें। ताजा भोजन करें।  
 
लू को गंभीरता से लें: डॉ. तोमर
आयुर्वेद विशेषज्ञ डॉ. जीएस तोमर ने बताया कि लू को गंभीरता से लें। लू लगने पर ठंडे पानी में भीगी पट्टी रोगी के सिर पर रखें। ठंडा पानी, आम का पना, सत्तू फायदा करेगा।
 
नमी में गिरावट आने से बढ़ा पारा
राजस्थान की ओर से उत्तर-पश्चिम गर्म हवा आ रही है। इस कारण अंचल लू के चपेट में आ गया है। गुरुवार को वातावरण में नमी की मात्रा सामान्य से नीचे पहुंच गई। छत पर रखी टंकियों का पानी उबलने लगा। रात को भी टंकियों का पानी ठंडा नहीं हो पा रहा है। 
 
 
शनि जयंती से शुरू होंगे नौतपा, इस बार नहीं तपेंगे
इस बार नौतपा शनि जयंती अर्थात 25 मई से शुरू होंगे। ज्योतिषाचार्य पं. विजयभूषण वेदार्थी के अनुसार, 25 मई अमावस्या के दिन सुबह 8.15 बजे से नौतपा प्रारंभ होंगे। नौ तपा  के प्रारंभ काल में सूर्य-मंगल की युति का शत्रु शनि से षड़ाष्टक योग बनेगा। इस  कारण खाद्य सामग्री महंगी होगी तथा दुर्घटनाए बढ़ेंगी। 31 मई को मंगल अस्त हो जाएंगे। इससे नौतपा पूर्ण रूप से नहीं तपेंगे। कहीं बूंदाबांदी तो कहीं बारिश होगी।
 
खबरें और भी हैं...