पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • हाथ में झाड़ू थामकर कहा नहीं देंगे वोट

हाथ में झाड़ू थामकर कहा- नहीं देंगे वोट

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पार्षद,महापौर सीएम हेल्पलाइन तक शिकायत दर्ज कराने के बाद भी जब कचरा नहीं उठा तो दर्पण कॉलोनी की थाटीपुर बजरिया के बाशिंदों ने खुद झाड़ू उठाकर रोजाना गंदगी साफ करने की ठानी है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि इन्होंने जिम्मेदार जनप्रतिनिधियों को माफ कर दिया है। गुरुवार को इन बाशिंदों ने नाराजगी जताते हुए कचरे के ढेर के सामने बैनर लगाकर, क्षेत्र में सफाई नहीं कराए जाने के विरोध में नगर निगम चुनाव का बहिष्कार करने का फैसला किया है। इनका कहना है कि जो प्रतिनिधि क्षेत्र की गंदगी साफ नहीं कर सकता, उसे वोट क्यों दें।

थाटीपुर में आठ दुकानों के नजदीक ही एक खाली प्लॉट पर पिछले पांच साल से आसपास के क्षेत्र का कचरा फेंका जाता है। कचरा जमा होते होते यह टीले में तब्दील हो गया है। आसपास के करीब 10 से 15 घरों के तो दरवाजे तक कचरा हवा से उड़कर जाता है। पूरे इलाके में कचरे के कारण बदबू फैली रहती है।

थाटीपुर के मोहन नगर में गंदगी के ढेर को साफ करते स्थानीय युवक। फोटो:भास्कर

टाइम मिलते ही करते हैं सफाई

^गंदगीसे परेशान लोगों ने पहले तो वार्ड ऑफिस और पार्षद से शिकायत की लेकिन यहां कचरा उठाने के लिए कोई नहीं आया। अब हमें जब टाइम मिल जाता है तो खुद कचरा साफ कर देते हैं। सौरभपाण्डेय, मोहननगर

दावेतो हैं, बुनियादी सुविधाएं नहीं

^महापौरऔर पार्षद पिछले पांच साल से विकास के दावे कर रहे हैं। हकीकत में लोगों को बुनियादी सुविधाएं भी नहीं मिल पा रही हैं। पांच साल से हम मोहन नगर में कचरे का ढेर देख रहे हैं। हरेंद्रसिंह चौहान, गल्लाकोठार

और जब बच्चाें ने थामे फावड़े

खुद खर्च करने पड़े रुपए

^सीवरका पानी बहने से परेशानी हो रही है। इसके पानी को दूसरे चेंबर में मिलाने के लिए पहले तो मैंने निगम के अधिकारियों को अवगत कराया। लेकिन जब किसी ने नहीं सुनीं तो मैंने खुद पैसे खर्च किए। इसके बाद भी परेशानी बरकरार है। एसमुखर्जी, मोहननगर

मतदान नहीं करेंगे

^पांचसाल से कचरे के ढेर से परेशान हैं। निगम चुनाव में जिन प्रत्याशियों पर भरोसा जताया था, वह भी शिकायत सुनने को तैयार नहीं है। बच्चों को बार-बार मलेरिया हो जाता है। आसपास के लोगों ने तय किया है कि इस बार मतदान में शामिल नहीं होंगे। केकेराजौरिया, थाटीपुरबजरिया

थाटीपुर के मोहन नगर में भी कुछ ऐसे ही हालात गुरुवार को देखने को मिले। यहां तो सड़क