• Hindi News
  • Now, The Picture Is Not Intended To Be A Scene Change Scindia

हंगामा खड़ा करना मकसद नहीं अब प्रदेश की तस्वीर बदलना है- सिंधिया

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

मुरैना. भाजपा सरकार के खिलाफ आयोजित कांग्रेस की जन आक्रोश सभा में प्रदेश के दिग्गज कांग्रेसी एक मंच पर दिखे। मुरैना स्टेडियम में आयोजित सभा के मंच पर दिग्गज कांग्रेसियों की एकजुटता का यह नजारा डबरा समेलन के दो दशक बाद देखने को मिला। सभा के मंच से सभी नेताओं ने जनता-जनार्दन से विधानसभा चुनाव में भाजपा सरकार को उखाड़ फेंकने का आह्वान किया। नेताओं ने चंबल की माटी की शान का हवाला देते हुए कहा कि आज इस मंच से उठी परिवर्तन की आवाज की गूंज पूरे प्रदेश में सुनाई देनी चाहिए।

प्रदेश की भ्रष्ट सरकार को उखाड़ फेंको : सिंधिया

केंद्रीय ऊर्जा राज्यमंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने अपने भाषण में दुष्यंत कुमार के शेर के साथ अपनी बात कही। उन्होंने कहा- हमारा मकसद सिर्फ हंगामा खड़ा करना नहीं बल्कि प्रदेश की तस्वीर बदलना है। इसके लिए हमें प्रदेश की भ्रष्ट सरकार को अपने बाजुओं की दम से उखाड़ फेंकना है।

पैसा केंद्र सरकार का और श्रेय भाजपा को : कमलनाथ

केंद्रीय मंत्री कमलनाथ ने कहा कि प्रदेश में विकास योजनाओं के लिए केंद्र सरकार भरपूर पैसा दे रही है पर इसका श्रेय प्रदेश सरकार ले रही है। मुयमंत्री जेब में नारियल रखकर हर योजना का शिलान्यास और लोकार्पण करने को तैयार रहते हैं।

आज यहां प्रदेश के हालात बदलने के लिए परिवर्तन की जो आवाज सुनाई दे रही है, वह पूरे प्रदेश में सुनाई देना चाहिए।

विधानसभा चुनाव में मप्र में कांग्रेस का, सोनिया गांधी और राहुल गांधी का परचम फहराना है। प्रदेश में भ्रष्टाचार के मुद्दे को लेकर उन्होंने कहा कि मप्र में मंत्री भ्रष्ट, जनता त्रस्त, अफसर मस्त और कानून व्यवस्था नष्ट है। प्रदेश में भाजपा की नहीं, एसएस ( शर्मा और सूर्यवंशी) की सरकार है। मुयमंत्री इन्हें संरक्षण दे रहे हैं, क्योंकि वे भी उनके साथ हैं। ऐसे में प्रदेश की जनता की सुरक्षा, समान और पहचान के लिए भाजपा सरकार को उखाड़ फेंकना जरूरी है। परिवर्तन का यह शंखनाद चंबल की माटी से निकलना चाहिए।

अबकी चूके तो भविष्य अंधेरे में : मोहन प्रकाश

प्रभारी महासचिव मोहन प्रकाश ने कहा इस बार एक भी वोट भाजपा को गया तो आने वाली पीढ़ी का भविष्य अंधेरे में चला जाएगा। प्रदेश में भाजपा सरकार लूट-खसोट में लगी है। सरकार के 18 मंत्री जेल की चौखट पर खड़े हैं, लोकायुक्त जांच का नतीजा आते ही वे जेल के भीतर होंगे।

डबरा समेलन की याद

मुरैना में एक मंच पर दिग्गज कांग्रेसियों की मौजूदगी ने 1992 में हुए डबरा समेलन की याद ताजा कर दी। इस समेलन में माधवराव सिंधिया, अजरुन सिंह ( अब दोनों दिवंगत), कमलनाथ, दिग्विजय सिंह और सीताराम केसरी ( दिवंगत) शामिल हुए थे। इसी के बाद प्रदेश की सा में कांग्रेस की वापसी हुई थी। मुरैना की सभा के मंच पर माधवराव सिंधिया और अजरुन सिंह की जगह उनके सुपुत्र थे। प्रदेश प्रभारी के रूप में महासचिव मोहन प्रकाश थे।