पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • रेत की आकृितयों में दिखी स्वाइन फ्लू की भयावहता

रेत की आकृितयों में दिखी स्वाइन फ्लू की भयावहता

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
नर्मदाऔर तवा नदी के संगम स्थल पर बांद्राभान में तीन दिवसीय रेत झील महोत्सव शुरू हुआ। महोत्सव के पहले दिन कई साहसिक और रोमांचकारी कार्यक्रम हुए। इसमें नर्मदा को प्रदूषण से बचाने को विशेष रूप से संदेश देते हुए 20 हजार मछलियां छोड़ी गईं तो उड़ीसा से आए सुदर्शन पटनायक ने स्वाइन फ्लू की स्थिति को बताने वाली आकृित उकेरी। इनके अलावा संगम पर रोमांचकारी और साहसिक कार्यक्रम हुए। इसमें रेत पर लोगों ने बाइक चलाई तो एरो शो किया गया। साथ ही वालीवॉल का मैच हुआ।

नर्मदा में हो रहे प्रदूषण को कम करने के लिए केंद्रीय मत्स्य शिक्षा संस्था ने यहां पर 20 हजार मछलियां छोड़ी। कलेक्टर संकेत भोंडवे ने बताया कि कालबसू अंगुलिका मछलियां पानी के अंदर छोटे जंतु को खाती है और प्रदूषण को कम करती हैं। कार्यक्रम के अतिथि कलेक्टर संकेत भोंडवे, नपाध्यक्ष अखिलेश खंडेलवाल, पूर्व मंत्री मधुहर्णे, गो सेवा बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष शिव चौबे थे। सभी ने नर्मदा को प्रदूषण से बचाने का आह्वान किया।



संचालन रवींद्र कुमार और सुनील वाजपेयी ने किया।

नर्मदा के तेज बहाव में ये मछिलयां किनारे पर आती हैं और जल को शुद्ध करने का लगातार काम करती हैं। हर साल इस तरह की मछलियां को इसमें छोड़ा जाएगा। साथ ही मछली की यह किस्म नर्मदा में बढ़ेगी।



अभी मछली की ये किस्म खत्म होने की कगार पर है।





पत्रकार और कलेक्टर की टीम के बीच मैच रहा टाई

कार्यक्रम स्थल पर पत्रकार और प्रशासन की टीम का बालीबाल मैच भी हुआ। करीब एक घंटे तक यह मैच रहा। इसमें दोनों ही टीम के खिलाड़ियों ने मैच में 14-14 पाइंट किए। मैच के दौरान कभी पत्रकारों की टीम आगे तो कभी कलेक्टर की टीम आगे रही। अंत तक रिजल्ट नहीं निकला। इस तरह मैच टाई रहा।



रसायन से बचाएं नर्मदा

नर्मदा को रसायन से बचाएं। इसको प्रदूषण से मुक्त रखने के लिए घरों का गंदा पानी नर्मदा में नहीं मिलाएं, नर्मदा में पूजन सामग्री डाले, खेतों में रसायन का उपयोग नहीं करें, जैविक खेती करें, कपड़े घाट पर नहीं धोएं आदि तरीके से नर्मदा को बचाएं। यह बात महोत्सव शुरू करते हुए अतिथियों ने कही।

बंजी जंपिंग का लुत्फ

संगमपर लोगाें के आकर्षण का केंद्र बंजी जंपिंग रही। यह हिल स्टेशन पचमढ़ी से लाए हैं। इसमें व्यक्ति को रस्सी से बांध देते हैं अौर मशीन से जुड़ी स्प्रिंग ऊपर फेंक देती हैं।

कुछ देर हवा में रहने के बाद इसे नीचे लाया जाता है। लोगों ने जमकर इसका लुत्फ लिया। यह तीन दिन तक यहां रहेगी।

आज ये कार्यक्रम होंगे

शनिवारको सुबह 8.30 बजे से 11 बजे तक पतंग प्रतियोगिता होगी। दोपहर 1.30 बजे से दोपहर 1 बजे तक सुदर्शन पटनायक द्वारा वर्कशाॅप में उपयोगी जानकारी देंगे।



दी जाएगी। दोपहर में बालीबाल प्रतियोगिता, जंप प्रतियोगिता होगी। शाम 5.30 बजे बांसुरी वादन, शाम 6 बजे पपेट शो होगा।

रेत पर बाइक चलाई

यहांलोगों ने रेत पर बाइक चलाई। यह बाइक खास समय पर ही प्रशासन द्वारा यहां रखी जाती है। सबसे पहले कलेक्टर ने बाइक चलाई। इसके अलावा लोगों ने इसका लुत्फ उठाया। गाड़ी के टायर इतने मोटे और मजबूत है कि रेत के ऊपर यह सड़क के समान दौड़ती है।

ड्रोन से बरसाए कागज के फूल

संगमपर ड्रोन और छोटे हवाई जहाज भी ऊपर घूमते रहे। कार्यक्रम प्रभारी डिप्टी कलेक्टर गणेश जायसवाल ने बताया कि ड्रोन ने ऊपर से लोगाें के फोटो लिए और कागज के फूल बरसाए हैं। साथ ही बच्चों के आर्कषण के लिए हवाई जहाज भी उड़ाए।

पद्म भूषण सम्मानित सुदर्शन पटनायक ने स्वाइन फ्लू के बढ़ते प्रभाव को लेकर रेत की चित्रकारी बनाई। इसमें बताया कि लोग इससे बचने के लिए मुंह पर पट्टी लगाए हुए हैं। लोगों के हाथ में स्वाइन का निशान भी बना है। वहीं लोगों के सामने स्वाइन की भी तस्वीर बनाई है। इस आकृति के पास जाकर लोगों ने तस्वीर खिंचवाई।

साथ ही संदेश दिया कि हमें इस खतरे से बचना है।