• Hindi News
  • Madhya Pradesh
  • Itarsi
  • दादाधाम एक्स. के एसी कोच में सीट गायब, फिर भी रिजर्वेशन
--Advertisement--

दादाधाम एक्स. के एसी कोच में सीट गायब, फिर भी रिजर्वेशन

Itarsi News - एसी कोच में सीट ही नहीं है लेकिन इसके बाद भी उस सीट का ना केवल रिजर्वेशन कर रहा बल्कि यात्रियों को उस सीट का...

Dainik Bhaskar

May 19, 2015, 04:40 AM IST
दादाधाम एक्स. के एसी कोच में सीट गायब, फिर भी रिजर्वेशन
इटारसी। एसी कोच में सीट ही नहीं है लेकिन इसके बाद भी उस सीट का ना केवल रिजर्वेशन कर रहा बल्कि यात्रियों को उस सीट का कन्फर्मेशन भी दे रहा है। इस स्थिति के कारण कोच में विवाद होने पर टीसी अन्य सीट खाली होने पर यात्री को दे देता है या फिर कहता है कि मैं क्या कर सकता हूं कोर्ट जाओ पहले से इसको लेकर तीन मामले चल रहे चौथा और सही। यह स्थिति श्री दादाधाम सुपरफास्ट एक्सप्रेस में हर दिन आती है। ट्रेन तीन दिन नागपुर से भुसावल और तीन दिन भुसावल से नागपुर चलती है। जब इस मामले में जिम्मेदारों से चर्चा की गई तो उनको इसकी जानकारी ही नहीं है और ट्रेन में चलने वाले टीसी यह कह पल्ला झाड़ देते है कि पता नहीं कब से सीट गायब है।

इस बारे में हमें जानकारी नहीं है मैंने ट्रेन टीसी से संपर्क करने का प्रयास किया पर नहीं हो पाया। जब बात होगी तभी कुछ बता पाऊंगा। एसजी राव, एसीएम, नागपुर रेलवे

यह ट्रेन के कोच की जिम्मेदारी है कि वह एसीएम को इसकी जानकारी दे, इस बारे में नागपुर से ही बेहतर बता सकते है क्योंकि इसका डिपो नागपुर है। वाय एस बघेल, स्टेशन प्रबंधक इटारसी।

सीट को लेकर एेसे समझे विवाद की वजह : सीट नंबर 3 पर सोमवार को ज्योति पंडित के नाम पर रिजर्व और कन्फर्म थी। वे नागपुर से खंडवा जा रही थी। जब सीट पर पहुंची तो तीन नंबर सीट गायब देखकर टीसी को ढूंढ़ा तो टीसी किशोर मालवीय ने उन्हें तीन की जगह 41 नंबर सीट आवंटित कर दी।

भुसावल से नागपुर जाते समय 10 मई को एक महिला को यह सीट मिली लेकिन जब महिला सीट पर पहुंची तो सीट गायब थी जिसमें उनका टीसी से विवाद हुआ। कोच में मौजूद इटारसी शिरीष कोठारी के अनुसार टीसी ने यह कह कर पल्ला झाड़ लिया कि कोर्ट में केस करो।

एक ही एसी कोच और उसमें सीट गायब

नागपुर-भुसावल एक्सप्रेस में 12 कोच रहते है जिसमें चार स्लीपर स्तर के सिटिंग कोच और एक एसी कोच होता है बाकी जनरल कोच रहते है। इस कोच में 72 सीट रहती है। इसमें एक कतार दो सीट की और एक तीन सीट वाली है। जिसमें शुरू में ही 3 सीट वाली कतार में एक सीट नदारद है और उस सीट का स्थान खाली है। इस सीट का नंबर 3 है।

तीन नंबर की सीट ज्योति पंडित के नाम पर अलॉट हुई थी। लेकिन सीट नहीं होने के कारण बाद में उन्हें पीछे 41 नंबर सीट आवंटित की गई। उनके परिवार के सदस्य यहीं बैठे रहे।

परेशानी

ट्रेन के बारे में

ट्रेन: श्री दादाधाम एक्सप्रेस

ट्रेन नंबर: 22112/22111

कहां से कहा: नागपुर से भुसावल/ भुसावल से नागपुर।
X
दादाधाम एक्स. के एसी कोच में सीट गायब, फिर भी रिजर्वेशन
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..