पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

थाने में कहा- 10 लाख लूट लिए, फिर बदले बयान, पुलिस ने कहानी को संदिग्ध माना

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
इंदौर. भोपाल की कैमरा डिस्ट्रीब्यूटर कंपनी का कर्मचारी गुरुवार शाम जूनी इंदौर थाने पहुंचा और बोला कि बदमाशों ने 10 लाख रुपए लूट लिए। पुलिस ने प्रारंभिक जांच शुरू की तो वह बार-बार बयान बदलता रहा। इसे लेकर पुलिस ने घटना को संदिग्ध मानकर उसी से पूछताछ शुरू कर दी।
सीएसपी शशिकांत कनकने ने बताया महेश पिता सुरेश दुबे निवासी माली मोहल्ला शाम सात बजे थाने पहुंचा। उसने बताया वह भोपाल की आकृति डीडी सेल्स कंपनी के लिए मार्केटिंग करता है। यह कंपनी निकोन कैमरे की डिस्ट्रीब्यूटर है। कंपनी के संचालक विजय पाहूजा ने उसे शाम को कॉल कर कहा कि वह जेल रोड पर याशिका एजेंसी से 10 लाख रु. कलेक्ट कर घर ले जाए।
शुक्रवार को यह राशि बैंक खाते में जमा कर दे। वह रुपए लेकर बाइक से सपना-संगीता रोड स्थित लोटस शोरूम में काम करने वाले भाई के पास जा रहा था, ताकि उसके साथ घर जा सके। स्नेह नगर की गली में पीछे से बाइक पर आए बदमाश उससे बैग छीन ले गए। इस दौरान वह और उसका मोबाइल गिर गया।
पीठ पर गोबर, मोबाइल में सिम नहीं, राशि भी कम

सीएसपी ने बताया महेश की पीठ पर गोबर लगा था, जबकि मौके पर कहीं गोबर नहीं मिला। आसपास के लोगों ने भी घटना की पुष्टि नहीं की। आहूजा को कॉल किया तो उन्होंने कहा शाम नहीं, बल्कि दोपहर 12.30 बजे महेश को 10.50 लाख रुपए लेने का कहा था। यह राशि या तो लोटस में जमा करा देता या बैंक में। लोटस में आहूजा का सामान जाता रहता है।
यह सुनकर महेश बोलने लगा कि आहूजा झूठ बोल रहे हैं। उसने कहा मोबाइल गिरा, लेकिन उसमें सिम ही नहीं थी। उसने जो नोट की जानकारी दी, उससे राशि 7.50 लाख ही हो रही थी। पहले कहा कागज में लपेटकर बैग में रुपए रखे थे। बाद में कहा डिब्बे में रखे थे।