पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • परमात्मा को पहचानने के लिए स्वयं को जानना बहुत जरूरी : परमानंद

परमात्मा को पहचानने के लिए स्वयं को जानना बहुत जरूरी : परमानंद

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
हम स्वयं को समझदार मानते हैं। इतने समझदार कि दूसरों को भी नासमझ मानकर ज्ञान देने लगते हैं। यह बड़ा मुश्किल काम है। आज व्यक्ति न तो कुछ समझने को तैयार है और न ही अपनी सोच को छोटी मानने को। समझ मापने का कोई थर्मामीटर भी नहीं बना। ऐसी स्थिति में विवेक ही एकमात्र आश्रय है, जिससे हम अपनी और दूसरों की समझ का आकलन कर सकते हैं। जब तक हम स्वयं के बारे में नहीं जानेंगे, स्वयं से नहीं मिलेंगे, परमात्मा को नहीं पहचान सकेंगे। यह बातें शुक्रवार को स्वामी परमानंद गिरि ने ध्यान योग शिविर में पंजाब अरोड़वंशीय धर्मशाला में कही। आयोजन अखंड परमधाम सेवा समिति के तत्वावधान में हो रहा है।

योगगुरु दादू भाई ने योगाभ्यास कराया। मीडिया प्रभारी अरुण गोयल ने बताया रविवार सुबह 9 बजे से गुरु पूर्णिमा महोत्सव मनाया जाएगा। शनिवार सुबह 7 से 8 बजे तक योग ध्यान शिविर एवं 8 से 9 बजे तक प्रवचन होंगे। शाम को 6 से 9 बजे तक भक्ति, सत्संग एवं प्रवचन का क्रम जारी रहेगा।

पंजाब अरोड़वंशीय धर्मशाला में सत्संग सत्र में संबोधित करते स्वामी परमानंद।

खबरें और भी हैं...