पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • फूल की तरह दूसरे के जीवन को सुगंधित करने से ही होगा कल्याण : डॉ. शिवमुनि

फूल की तरह दूसरे के जीवन को सुगंधित करने से ही होगा कल्याण : डॉ. शिवमुनि

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
फूल महल, झोपड़ी या गंदे स्थान कहीं भी खिला हो, सुगंध ही देता है। उसका नेचर सुगंध देना है। आपका जीवन भी दूसरों को अच्छे कामों से सुगंधित करना होना चाहिए। आप मानव जीवन रूपी प्रभु के आशीर्वाद से मिले फूल से दूसरों को सुगंधित करें। इसी से आपका कल्याण होगा। दूसरों के जीवन में कष्ट का सोचने वाला स्वयं कष्ट पाता है।

ये बातें शुक्रवार को आचार्य डॉ. शिवमुनि ने खेल प्रशाल में कही। उन्होंने कहा कि धर्म हृदय से होता है, ढकोसले धर्म नहीं होते। वह तो पाखंड ही है। प्रेम से बोलकर आप दूसरों का दिल जीत सकते हैं, लेकिन दूसरों का दिल जलाकर आप कुछ नहीं पा सकते। कार्यक्रम में उपाध्याय केवलमुनि की जयंती मनाकर गुणानुवाद सभा भी हुई। इसमें युवा आचार्य महेंद्र ऋषि, प्रवर्तक प्रकाश मुनि, श्रमण संघ के प्रमुख मंत्री शिरीष मुनि, शुभम् मुनि आदि ने विचार रखें। चातुर्मास समिति के नेमनाथ जैन ने बताया श्रमण संघ के आचार्य आनंद ऋषि के 118वें जन्मोत्सव पर 24 जुलाई को खेल प्रशाल में आयोजन होगा।

खेल प्रशाल में आचार्य डॉ. शिवमुनि के प्रवचन सुनने बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचे।

खबरें और भी हैं...