पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • संभाग में तलाशे 1.80 लाख किसान, अब इन्हें सहकारी संस्थाओं से दिलाएंगे लोन

संभाग में तलाशे 1.80 लाख किसान, अब इन्हें सहकारी संस्थाओं से दिलाएंगे लोन

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सहकारिता विभाग ने प्रदेश में ऐसे किसानों की तलाश की है जो कभी सहकारी संस्थाओं के सदस्य नहीं रहे और न कभी लोन लिया। इंदौर संभाग में ऐसे 1 लाख 80 हजार किसान मिले हैं। विभाग ने इन्हें सदस्य बनाया है और अब लोन देने सहित अन्य लाभ दिया जाएगा। इनमें साढ़े 13 हजार किसान इंदौर जिले के शामिल हैं। विभाग का इसके पीछे उद्देश्य यह है कि किसान महंगे ब्याज के जाल में फंसकर कर्ज न लें।

राज्य सहकारिता आयुक्त कवींद्र कियावत ने हाल ही आदेश दिया था कि जिला सहकारी केंद्रीय बैंकों की समीक्षा के दौरान उनके संज्ञान में यह बात आई कि जिलों के कई किसान अभी भी जिला सहकारी केंद्रीय बैंकों से संबद्ध प्राथमिक कृषि साख संस्थाओं से लोन नहीं लेते। इसका कारण यह है कि वे कभी प्राथमिक कृषि सहकारी साख संस्थाओं के सदस्य ही नहीं रहे। कई ऐसे भी हैं जो सदस्य तो बन गए किंतु संस्थाओं से लोन नहीं लेते और उसके बजाए वे अन्य जगह से लोन लेते हैं। इसी कारण किसान जमीन गिरवी रखे बिना शून्य ब्याज पर कृषि लोन, वस्तु ऋण की समय पर वापसी पर लोन राशि में 10 प्रतिशत छूट, प्राकृतिक आपदा में अल्पकालीन फसल ऋण को मध्यकालीन फसल ऋण में परिवर्तन आदि का लाभ नहीं ले पाते।

आयुक्त ने अभियान चला कर ऐसे किसानों के घर-घर जाकर तलाश कर उन्हें समितियों का सदस्य बनाने के आदेश दिए थे। यह आदेश भी दिए गए थे कि सदस्यता फार्म साथ रखे जाएं और ऐसे किसानों के मिलने पर तत्काल सदस्यता फार्म भरवा कर सदस्य बनाया जाए। आयुक्त के सख्त निर्देश थे कि नियमों का पालन कर शून्य बैलेंस पर भी सदस्य बनाया जाए। साथ ही उन्हें उपरोक्त लाभ के बारे में भी बताया जाए, ताकि कृषक लोन के चक्कर में अन्य लोगों के जाल में न फंसें।

सबसे ज्यादा सदस्य खंडवा में बने
संभागीय संयुक्त आयुक्त सहकारिता जगदीश कनोज के मुताबिक यह अभियान 15 दिन से चल रहा था। संभाग में कुल एक लाख 79 हजार 856 सदस्य बनाए गए। इसमें सर्वाधिक 50 हजार 94 सदस्य खंडवा जिले में बने, जबकि सबसे कम सदस्य 8742 सदस्य आलीराजपुर जिले में बने।

किस जिले में कितने सदस्य बने
जिला सदस्य

1. इंदौर 13,585

2. धार 32,488

3. खरगोन 32,482

4. बड़वानी 14,904

5. बुरहानपुर 11,715

6. झाबुआ 15,846

7. आलीराजपुर 8,742

8. खंडवा 50094

शून्य बैलेंस पर बनाया गया सदस्य
खबरें और भी हैं...