• Hindi News
  • Madhya Pradesh
  • Indore
  • News
  • हमारे शास्त्रों के ज्ञान काे दुनिया के सामने लाने के लिए संस्कृत जानना जरूरी : जैन
--Advertisement--

हमारे शास्त्रों के ज्ञान काे दुनिया के सामने लाने के लिए संस्कृत जानना जरूरी : जैन

News - इंदौर | संस्कृत भाषा से ही दुनिया विकास करेगी। हमारे ऋषि-मुनियों द्वारा कठोर तप कर ज्ञान प्राप्त किया। इस संपूर्ण...

Dainik Bhaskar

Oct 09, 2017, 03:35 AM IST
हमारे शास्त्रों के ज्ञान काे दुनिया के सामने लाने के लिए संस्कृत जानना जरूरी : जैन
इंदौर | संस्कृत भाषा से ही दुनिया विकास करेगी। हमारे ऋषि-मुनियों द्वारा कठोर तप कर ज्ञान प्राप्त किया। इस संपूर्ण ज्ञान को उन्होंने हमारे ग्रंथों में समाहित किया। इसे समझकर दुनिया के सामने लाने के लिए संस्कृत का पूर्ण ज्ञान होना जरूरी है। वर्तमान पीढ़ी और बच्चों के लिए ये चुनौती है। यह भी दुर्भाग्य है कि आज संस्कृत की स्थिति पहले जैसी नहीं है।

यह बात रविवार को राज्यसभा सदस्य मेघराज जैन ने मल्हारगंज स्थित ओंकारद्विज संस्कृत विद्यालय के नए भवन के लोकार्पण समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में कही। उन्होंनें यहां के पुस्तकालय के लिए सहायता देने की भी घोषणा की। समारोह में संत अमृतफले, वरिष्ठ पत्रकार डॉ. वेदप्रताप वैदिक, विनोद अग्रवाल, वैष्णव विद्यापीठ विवि के कुलपति पुरुषोत्तम पसारी आदि विशेष अतिथि थे। संचालक शैलेंद्र मित्तल ने विद्यालय के 92 वर्ष के सफर का ब्योरा पेश किया। उन्होंने कहा कि कुछ दिनों में यहां संगीत, कम्प्यूटर, योग आदि की कक्षाएं शुरू करने की योजना है। कार्यक्रम में भवन निर्माण में सहयोग देने वाले शिव अग्रवाल एवं दिनेश चौरसिया का शॉल-श्रीफल भेंट कर सम्मान किया गया। संचालन आचार्य रमेशचंद्र शर्मा ने किया।

मल्हारगंज में ओंकारद्विज संस्कृत विद्यालय के नए भवन का लोकार्पण किया गया।

X
हमारे शास्त्रों के ज्ञान काे दुनिया के सामने लाने के लिए संस्कृत जानना जरूरी : जैन
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..