• Hindi News
  • National
  • 6 घंटे शहर में घूमी बाणेश्वरी कावड़ यात्रा, 200 से ज्यादा मंचों से स्वागत

6 घंटे शहर में घूमी बाणेश्वरी कावड़ यात्रा, 200 से ज्यादा मंचों से स्वागत

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
महेश्वर से उज्जैन के लिए इस बार भी बाणेश्वरी कावड़ यात्रा शुक्रवार को शहर से गुजरी। सुबह 9 बजे अन्नपूर्णा से निकली इस यात्रा का बाणगंगा तक हजारों श्रद्धालुओं ने 200 से ज्यादा मंचों से स्वागत किया। सावन की सबसे बड़ी इस कावड़ यात्रा से पश्चिम और मध्य क्षेत्र श्रद्धा से सराबोर रहा। सुबह से दोपहर तक रिमझिम बारिश के बीच कावड़ यात्रा के स्वागत में भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा, महापौर मालिनी गौड़, विधायक रमेश मेंदोला सहित कई नेता, पदाधिकारी शामिल हुए।

सुबह अन्नपूर्णा मंदिर में चुनरी चढ़ाकर, 101 वेदपाठी बालकों द्वारा स्वस्ति वाचन और महामंडलेश्वर स्वामी विश्वेश्वरानंद गिरि द्वारा श्रीफल भेंट करने के बाद यात्रा शुरू हुई। केसरिया वस्त्रों में, रंग-बिरंगी कावड़ लिए श्रद्धालु बोल बम का उदघोष करते हुए महूनाका पहुंचे। यहां भाजपा के संभागीय संगठन मंत्री जयपालसिंह चावड़ा, इंदौर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष शंकर लालवानी, मप्र हाउसिंग बोर्ड के अध्यक्ष कृष्णमुरारी मोघे, पूर्व विधायक जीतू जिराती, आनंद पुरोहित, दीपेंद्रसिंह सोलंकी, चंद्रभानसिंह सोलंकी, मुन्ना मिश्रा, प्रमोद शुक्ला आदि ने यात्रा का स्वागत किया। महूनाका से कलेक्टोरेट, मोती तबेला, पंढरीनाथ, यशवंत रोड होते हुए यात्रा राजबाड़ा पहुंची। यहां संयोजक गोलू शुक्ला ने देवी अहिल्या की प्रतिमा का दुग्धाभिषेक कर चुनरी चढ़ाई। यहां से इमली बाजार, सदर बाजार होते हुए यात्रा मरीमाता चौराहा की ओर बढ़ने लगी तो अनेक मुस्लिम भाइयों ने भी साफा बांधकर शुक्ला और साथियों का स्वागत किया। लगभग छह घंटे शहर भ्रमण के बाद यात्रा रेवती रेंज रवाना हुई।

21 फीट ऊंचे नंदी सहित चार झांकियां शामिल
यात्रा के साथ चल रही 21 फीट ऊंचे नंदीजी सहित 4 झांकियां आकर्षण का केंद्र थी। अगवानी में शामिल युवा बैंड-बाजों के संगीत पर थिरकते हुए श्रद्धालुओं का जोश बढ़ा रहे थे। भूत-प्रेत सहित भोलेबाबा की बरात सबसे आगे चल रही थी। 10 जुलाई को महेश्वर से महाकालेश्वर के लिए निकली ढाई हजार शिव भक्तों की कावड़ यात्रा का शहर में 200 से अधिक मंचों से स्वागत हुआ। यह 15 जुलाई को रेवती रेंज से खान बड़ोदिया होते हुए 16 को उज्जैन पहुंचेगी। 17 जुलाई सुबह 4 बजे बाबा महाकाल का जलाभिषेक किया जाएगा।

कई जगह लगा जाम- कावड़ यात्रा की तैयारियों से लेकर गुजरने तक मध्य क्षेत्र में वाहन चालकों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा। खासकर स्कूली और यात्री वाहनों को। पुलिस ने जहां से यात्रा गुजरी वहां ट्रैफिक डायवर्ट किया। इसी कारण लोग परेशान होते रहे।

राजबाड़ा पर भी कावड़ यात्रा का स्वागत किया गया। यहां से शिवभक्त उज्जैन रवाना हुए। फोटो : कमलेश ठाकुर

खबरें और भी हैं...