• Hindi News
  • National
  • किंग एडवर्ड मेडिकल स्कूल में बनेगा म्यूजियम

किंग एडवर्ड मेडिकल स्कूल में बनेगा म्यूजियम

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
एमजीएम मेडिकल कॉलेज प्रशासन 138 साल पुराने किंग एडवर्ड मेडिकल स्कूल की बिल्डिंग पर्यटन विभाग को देने के लिए राजी हो गया है। पर्यटन विभाग स्कूल और उसके आसपास की 1.01 एकड़ जमीन को पुरातत्व धरोहर के रूप में विकसित करना चाहता है। कॉलेज प्रशासन बिल्डिंग देने को मान गया, लेकिन इसके आसपास की जमीन नहीं देगा। कॉलेज प्रशासन का कहना है कि इस जमीन पर कई परियोजनाएं प्रस्तावित हैं। पर्यटन विकास निगम ने इस बिल्डिंग को म्युजियम और जमीन को पर्यटन विकास के लिए मांगा था।

पर्यटन निगम के सचिव ने इस संबंध में पिछले साल सितंबर में चिकित्सा शिक्षा विभाग को पत्र लिखा था, जिसमें कहा था कि मेडिकल स्कूल के आसपास की 1.01 एकड़ जमीन को पुरातत्व धरोहर के रूप में विकसित करने के लिए दी जाए। इसके तीन महीने बाद मेडिकल कॉलेज प्रशासन ने चिकित्सा शिक्षा विभाग को पत्र लिखकर कहा कि पुरातात्विक महत्व की इस धरोहर को पर्यटन के विकास के लिए दिया जाना उचित है, लेकिन वर्तमान में यहां आसपास की खाली जमीन पर राज्य व केंद्र सरकार की कई परियोजनाएं प्रस्तावित हैं, इसलिए जमीन नहीं दी जा सकती है।

100 सीट के नर्सिंग छात्रावास का निर्माण

150 से 250 एमबीबीएस सीट के अपग्रेडेशन का प्रोजेक्ट

एमडीआर यू लैब की स्थापना, नेफ्रोलॉजी विभाग

ऑडिटोरियम, परीक्षा हाल और छात्रावास का निर्माण।

प्रधानमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना के तहत प्रस्तावित सुपर स्पेशिएलिटी अस्पताल, बर्न यूनिट

लाइब्रेरी, वायरोलॉजी लैब, लेवल-3 ट्रॉमा सेंटर

आईसीयू का निर्माण, कार्डियक सेंटर, प्रसूति चिकित्सालय का अपग्रेडेशन

1878 में स्थापित हुआ था मेडिकल स्कूल
मेडिकल स्कूल 1878 में स्थापित हुआ था। इसके बाद वर्ष 1948 में एमजीएम मेडिकल कॉलेज स्थापित हुआ और नियमित एमबीबीएस डिग्री कोर्स शुरू किया गया। फिर एमडी कोर्स शुरू हुआ। इसके बाद चाचा नेहरू बाल चिकित्सालय, शासकीय कैंसर हॉस्पिटल सहित कई यूनिट स्थापित की गई।

सहेजेंगे विरासत
खबरें और भी हैं...