पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पेट चीरने वाले के खिलाफ सड़क पर आए लोग

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
इंदौर। लाइफ लाइन अस्पताल में महिला का पेट चीरकर बिना ऑपरेशन किए सिलने के बाद हुई मौत के मामले में परिजन व रहवासियों ने शनिवार को एमआईजी थाने का घेराव किया। उन्होंने अस्पताल के डायरेक्टर और डॉ. सुष्मिता मुखर्जी को मौत का जिम्मेदार ठहराते हुए नारेबाजी की। लोगों ने दोषियों को गिरफ्तार कर अस्पताल बंद करने की भी मांग की।
मृतका अर्चना बियाणो के परिजन और परदेशीपुरा क्षेत्र के रहवासी दोपहर 12.30 बजे एमआईजी थाने पहुंचे। सूचना पर सीएसपी प्रशांत चौबे भी वहां पहुंचे। मृतका के बहनोई प्रवीण दुराने ने सीएसपी से डॉ. सुष्मिता व अस्पताल के डायरेक्टर डॉ. असलम चरा पर कार्रवाई की मांग की। चचेरे भाई राजू धलपे समेत अन्य लोगों का आरोप है कि अस्पताल में इलाज के नाम पर रुपए ऐंठे जाते हैं। इसे बंद करा देना चाहिए।
कलेक्टर के आदेश पर होगी गिरफ्तारी
सीएसपी ने कहा- मेडिकल बोर्ड जांच कर रहा है। उस आधार पर दोषी को सजा मिलेगी। इस पर लोगों ने कहा- मेडिकल बोर्ड डॉक्टर का ही पक्ष लेगा। बोर्ड निष्पक्ष जांच करे तो लापरवाही सामने आएगी। सीएसपी ने कहा- कलेक्टर के आदेश पर ही दोषियों के खिलाफ केस दर्ज कर गिरफ्तार कर सकेंगे।
एसडीएम से कहा- डॉक्टर पर कार्रवाई कराओ
इसके बाद सभी कलेक्टोरेट में एसडीएम रजनीश कसेरा के पास पहुंचे। उन्होंने एसडीएम से कहा- दोषी डॉक्टर पर कार्रवाई कराओ। मेडिकल बोर्ड डॉक्टर को बचा सकता है। कसेरा ने मामले की निष्पक्ष जांच का आश्वासन दिया। उन्होंने कहा इस संबंध में सोमवार को बयान लेंगे।