पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पांच महीने पहले तीन भाइयों से मिली चोट ने ले ली जान

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
इंदौर। पांच माह पहले विवाद में घायल हुए युवक की मंगलवार सुबह मौत हो गई। सिर पर गंभीर चोट होने से वह तभी से कोमा में था। मौत के बाद गुस्साए परिजनों ने हमला करने वाले तीनों भाइयों को फांसी दिलाने की मांग करते हुए तिलकनगर चौराहे पर अर्थी रख चक्काजाम कर दिया। अधिकारियों ने आरोपियों पर हत्या का मामला दर्ज करने का आश्वासन दिया तब वे माने।
सितंबर 2012 में नरेंद्र पिता तुलसीराम कौशल (२६) निवासी बड़ी ग्वालटोली का मोहल्ले के ही तीन भाई रवि, मनीष व रजत यादव के साथ विवाद हुआ था। जब नरेंद्र घर के सामने पानी भर रहा था तभी आरोपियों ने बेसबॉल का बल्ला सिर पर दे मारा, जिससे वह कोमा में चला गया। पुलिस ने आरोपियों को जानलेवा हमले के केस में गिरफ्तार भी किया था। फिलहाल वे जमानत पर हैं। नरेंद्र के भाई छोटू ने बताया जनवरी में नरेंद्र को अस्पताल से घर लाए थे। मार्च में उसके सिर का ऑपरेशन फिर से होने वाला था।
शव रख सड़क जाम कर दी : परिजन व रहवासी अर्थी लेकर तिलकनगर चौराहे पहुंचे और जाम लगा दिया। उन्होंने नारेबाजी कर हत्यारों को फांसी देने की मांग की। सूचना पर सीएसपी एसएम जैदी पहुंचे। उन्होंने परिजन को आश्वासन दिया कि आरोपियों पर हत्या का मामला दर्ज किया जाएगा। उन्होंने टीआई से धारा बढ़ाकर आरोपियों की गिरफ्तारी के निर्देश दिए। इसके बाद शव का तिलकनगर मुक्तिधाम में अंतिम संस्कार किया गया।
पिता की मौत के बाद उसी पर थी जिम्मेदारी
मामा महेश ने बताया नरेंद्र के परिवार में मां सावित्री, पत्नी संगीता, दो बेटी परी (डेढ़ साल) और पिंकी (दो माह) व छोटा भाई छोटू है। उसकी तीन बहन ममता, राधा व कृष्णा की शादी हो चुकी है। मौत के बाद मां व पत्नी बदहवास हैं। छोटू ने बताया नरेंद्र पेंटर था। पिता की मौत के बाद घर की जिम्मेदारी उसी पर थी। आरोपियों ने झगड़े के दौरान गर्भवती भाभी के पेट पर भी लात मारकर उन्हें घायल कर दिया था।