पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जिस महिला का पेट चीरा था उसकी मौत, डॉक्टर भाग गए

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
इंदौर. लाइफ लाइन अस्पताल में सोमवार को डॉक्टरों की टीम ने जिस महिला का पेट चीरने के बाद बिना आपरेशन के ही सिल दिया था उसकी बुधवार देर रात मौत हो गई। ड्यूटी पर तैनात डॉक्टर और स्टॉफ महिला का शव लावारिस छोड़कर भाग खड़े हुए।
घंटों तक पूरा अस्पताल सिर्फ एक नर्स के भरोसे चलता रहा। घटना की सूचना मिलते ही तोड़फोड़ की आशंका के चलते बड़ी संख्या में पुलिस फोर्स अस्पताल पहुंच गया। हॉस्पिटल में देर रात तक स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई थी।
महिला की बहन ममता और पिता ओमप्रकाश ने कहा कि अर्चना को शाम छह बजे से तेज दर्द हो रहा था। कई बार बुलाने पर एक डॉक्टर आए और ऑक्सीजन लगाकर चले गए। इलाज करने वाली डॉक्टर सुष्मिता मुखर्जी को लगातार फोन लगाया लेकिन हालत देखने की बजाए उन्होंने अपना फोन बंद कर लिया। कुछ देर बाद दूसरे डॉक्टर आए और उन्होंने अर्चना को वेंटीलेटर पर रख दिया।
ममता के अनुसार रात करीब दस बजे जब अर्चना की आवाज आना बंद हो गई तो एक-एक कर सभी डॉक्टर और स्टॉफ अस्पताल से गायब हो गए। हमें कोई यह भी नहीं बता रहा था कि अर्चना की हालत क्या है। वो जिंदा है या मर गई। रात साढ़े ग्यारह बजे अस्पताल में सिर्फ एक सिस्टर अनुराधा ही थी। वो भी डर के मारे दूसरे कमरे में छुप गई।
घंटों दहशत में रहे दूसरे मरीज
मौत के बाद अस्पताल में सन्नाटे, पुलिस और दहशत का जो माहौल बना उससे दूसरे मरीज और उनके परिजन भी डर गए। देर रात तक न तो अस्पताल प्रबंधन की तरफ से कोई आया, न ही डॉक्टर। महिला के परिजन गुस्से में हॉस्पिटल में इधर से उधर भटकते रहे। कोई नहीं मिलने पर उनका गुस्सा और बढ़ता जा रहा था। महिला वेंटिलेटर पर ही थी।
वेंटिलेटर हटाने वाला भी कोई नहीं था। इससे स्थिति और तनावपूर्ण हो गई। परिजनों ने पहले हॉस्पिटल में हंगामा किया फिर एफआईआर लिखाने थाने चले गए। देर रात ड्यूटी डॉक्टर सी.एस अविनाश ने पुलिस और भास्कर से महिला की मौत की पुष्टि कर दी। उधर, पुलिस ने परिजनों से कहा है कि पहले मृतका का पोस्टमार्टम और शुरुआती जांच हो जाए फिर मर्ग कायम कर लिया जाएगा।
यह था मामला
परदेशीपुरा में रहने वाली 32 वर्षीय अर्चना बियाणो की बच्चादानी में पिछले छह साल से गठान थी। वो डॉ सुष्मिता मुखर्जी से इलाज करा रही थी। अर्चना को डॉक्टर ने ऑपरेशन की सलाह दी जिसमें खुद का खर्च 28 हजार रुपए और सहयोगी डॉक्टर नरेंद्र पाटीदार का खर्च 12 हजार रुपए बताया। सोमवार को अर्चना अस्पताल में भर्ती हो गई और डॉक्टरों की टीम ने आपरेशन शुरू कर दिया।
अर्चना की बहन ममता ने बताया कि ऑपरेशन के लिए पहले पेट चीर दिया फिर डॉक्टरों ने हमें बुलाकर गठान दिखाते हुए कहा कि इसके ऑपरेशन में छह लाख का खर्च आएगा। अचानक इतने अधिक पैसे देने में हमने असमर्थता जताई तो डॉक्टरों ने बिना ऑपरेशन किए पेट फिर सिल दिया और वार्ड में शिफ्ट कर दिया।