पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

एक घंटे में हुए 1 हजार करोड़ के 62 करार

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जबलपुर। संभाग के छोटे उद्यमियों के लिए आज नई उम्मीदों के रास्ते खुले। अब तक छोटे दायरे में सीमित लघु उद्यमी भी अब बड़े सपने देख सकेंगे और उन्हें साकार भी कर सकेंगे। महाकौशल हाट बाजार में आयोजित हुए संभागीय सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यमी सम्मेलन में आज 1 हजार करोड़ के 62 करार (एमओयू) हुए।
इनमें से 13 एमओयू मुख्यमंत्री के समक्ष साइन हुए। सभी करारों में हर क्षेत्र के उद्यम शामिल हैं। इस नए इन्वेस्टमेन्ट के जरिए करीब 8 हजार लोगों को रोजगार भी मिलेगा। वहीं, लगभग 90 निवेशकों द्वारा 15 सौ करोड़ की पूंजी निवेश के लिए एक्सप्रेशन ऑफ इंट्रेस्ट भी दिखाया गया है।
व्यापार आयुक्त की नियुक्ति!
उद्योग के साथ व्यापार को बढ़ावा देने के लिए सरकार को जरूरी कदम उठाने होंगे। ऐसी एजेंसी जो पूरे देश में मध्यप्रदेश की उद्योग संभावनाओं को कैश करवा सके। इसके लिए प्रदेश के उद्योगपति उद्योग विकास प्राधिकरण की पुरजोर मांग करते आए हैं। सूत्र बताते हैं कि व्यापारियों की मांग को देखते हुए प्रदेश में उद्योग विकास प्राधिकरण भले ही न बने लेकिन 16 मार्च को प्रदेश में उद्योग विभाग के आयुक्त की तरह व्यापार आयुक्त का पद बनाया जा रहा है। व्यापार आयुक्त, उद्यमियों को प्रोत्साहित करने से लेकर उनकी समस्याओं को दूर करने और व्यापार को बढ़ावा देने के लिए आवश्यक कदम उठाएंगे।
इस सम्मेलन में पूरे संम्भाग के करीब 12 सौ उद्यमी शामिल हुए। तीन चरणों में हुए इस आयोजन में उद्योग एवं व्यापार जगत में वैश्विक स्तर पर हो रहे बदलावों पर चर्चा की गई एवं यह भी बताया गया कि कैसे इन परिवर्तनों के साथ कदम से कदम मिलाकर चला जा सकता है। नए युग के तकनीकी पक्ष पर भी मंथन हुआ। विशेषज्ञों ने बताया कि व्यापार में तकनीकें बदल रही हैं, जिन्हें अपनाए बिना पूरी गति के साथ आगे बढ़ना मुश्किल है। इस आयोजन में छोटे उद्यमी के व्यापार से जुड़ी शंकाओं-सवालों का भी समाधान किया गया।
चीन की तरह होगा मप्र का उद्योग जगत
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि चीन की तर्ज पर मध्य प्रदेश में भी गांव-गांव और घर-घर तक नए उद्योगों को पहुंचाया जाएगा, ताकि प्रदेश में एक समृद्धशाली उद्योग जगत विकसित हो सके। श्री चौहान कार्यक्रम के मुख्य अतिथि की आसंदी से बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि देश-विदेश में जितने भी बड़े उद्योग स्थापित हुए हैं, वे सभी छोटे स्तर और लघु पूंजी से ही शुरू हुए हैं। श्री चौहान ने जोर दिया कि सरकार का इरादा प्रदेश में ही बड़े उद्योगपति बनाने का है। श्री चौहान ने कहा कि छोटे उद्योगों से होने वाले उत्पादन को सरकार विदेश के बाजारों तक ले जाएगी और इसके लिए पूरी सहायता सरकार की होगी। श्री चौहान ने बताया कि प्रदेश में 24 घंटे बिजली देने के पीछे सबसे बड़ा उद्देश्य है कि प्रदेश के छोटे उद्योग तेजी से विकास करें।
बिना अपॉइंटमेन्ट के मिलेंगे सीएम
कार्यक्रम के दौरान अपर मुख्य सचिव पीके दास ने बताया कि हर सोमवार को मुख्यमंत्री उद्यमियों से मुलाकात करेंगे और इस मुलाकात के लिए अपॉइंटमेन्ट की औपचारिकता नहीं होगी। श्री दास ने कहा कि उद्यमियों को अब एक दिन का भी इंतजार नहीं करना पड़ेगा।