पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Reservation For Women In Upcoming Municipal Election In Jabalpur

आगामी चुनाव में महिलाओं के पास होगी जिले की कमान

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जबलपुर. घर-गृहस्थी की जिम्मेदारी संभालने वाली महिलाओं के ऊपर पूरे जिले की ही कमान सौंप दी गई है। जिले की नगर सत्ता और पंचायतों को संभालने का दायित्व महिलाओं के हवाले कर दिया गया है। नगरीय निकाय चुनावों के लिए जिले के अंतर्गत आने वाले नगर के फर्स्ट पर्सन कहे जाने वाले मेयर के पद से लेकर, नगर पालिका व नगर पंचायतों के अध्यक्षों के अधिकांश पद महिलाओं के लिए सुरक्षित कर दिए गए हैं। नगर निकायों में जहां महिलाओं का लगभग 95 फीसदी आरक्षण हो गया है। वहीं जनपद पंचायत अध्यक्ष पद भी लगभग 70 फीसदी महिलाओं के हो गए हैं।

वैसे तो सरकार द्वारा नगरीय निकाय चुनावों में 50 फीसदी आरक्षण का प्रावधान है, परन्तु जिले में नगर सत्ता के मुखिया पद के लिए एक पद को छोड़कर सभी पदों के लिए आरक्षण हो गया है। महिलाओं के खाते में अधिकांश पद आने से जिले की राजनीति में महिलाओं का बोलबाला हो गया है। हालांकि इन नगर सत्ता के लिए वार्डों में महिलाओं के लिए 50 फीसदी ही आरक्षण किया गया है। आरक्षण होने के बाद अब घर का काम संभालने वाली महिलाएं चुनावी मैदान में कूदने की तैयारी कर रही हैं। आने वाले समय में रोचक चुनाव मुकाबला देखने को मिल सकता है।

महिलाओं के लिए आरक्षित पदों की स्थिति
जिले में जबलपुर नगर निगम सहित पनागर और सिहोरा में नगर पालिका तथा पाटन, शहपुरा, कटंगी, मझौली एवं बरेला में नगर पंचायत के चुनाव होने हैं। इनमें से केवल मझौली नगर पंचायत पुरुष पिछड़ा वर्ग के लिए आरक्षित है, बाकी सभी जगहों पर मुखिया के पद महिलाअों के लिए आरक्षित कर दिए गए हैं।

नेता पति टिकट के लिए जोड़-तोड़
महिलाओं के लिए आरक्षण होने के बाद भाजपा और कांग्रेस के नेता पतियों द्वारा टिकट के लिए जोड़-तोड़ शुरू कर दी गई है। महिलाओं द्वारा अपने पतियों को आगे कर टिकट मांगी जा रही है। हालांकि कुछ महिलाएं जरूर अपने काम-काज के दम पर टिकट की मांग कर रही हैं।

पार्टियों की दिक्कतें कम
अधिकांश नगरीय निकाय के अध्यक्ष पद महिलाओं के लिए आरक्षित होने से भाजपा और कांग्रेस पार्टी की दिक्कतें कम हो गई हैं। महिलाअों के लिए आरक्षण होने के बाद कम दावेदार ही सामने आ रहे हैं।

जनपद में 70 फीसदी अारक्षण
जनपद पंचायतों के अध्यक्ष पद के लिए हुए आरक्षण में महिलाओं के लिए 70 फीसदी पद आरक्षित हो गए हैं। जानकारी के अनुसार जिले की सात जनपद पंचायत के लिए हुए आरक्षण में चार पद महिलाओं के लिए सुरक्षित हो गए हैं।
आगे की स्लाइड में देखें क्या है आरक्षण की स्थिति..