पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • National
  • टपक सिंचाई यंत्र के लिए करें पंजीयन, अनुदान लोन भी मिलेगा

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

टपक सिंचाई यंत्र के लिए करें पंजीयन, अनुदान-लोन भी मिलेगा

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
परंपरागत सिंचाई पद्धति से जितने पानी से एक एकड़ में सिंचाई हाेती है, उतने ही पानी से टपक सिंचाई के जरिए करीब 20 एकड़ में सिंचाई हो सकती है। पानी का सदुपयोग होता है। बिजली का खर्च घटता है। उत्पादन में भी बढ़ाेत्तरी होती है। कृषि विभाग भी किसानों को ड्रिप सिस्टम द्वारा सिंचाई करने के प्रति जागरूक कर रहा है और इस विधि को अपनाने के लिए किसानों को सब्सिडी दे रहा है। दूसरी तरफ किसानों को उद्यानिकी और कृषि विभाग 55 से 70 फीसदी तक अनुदान दे रहा है। वहीं, किसानों की सहुलियत को देखकर जिला सहकारी केंद्रीय बैंक किसान क्रेडिट कार्ड के आधार पर किसानों को लोन मुहैया करा रही है। टपक सिंचाई खरीदने के लिए किसान को मध्यप्रदेश फार्मर ट्रेकिंग सिस्टम (एमपीएफटीएस) पर ऑनलाइन पंजीयन कराना होगा, यह स्कीम पहले आओ-पहले पाओ के आधार पर मिलेगी।

मध्यप्रदेश के किसान टपक सिंचाई विधि द्वारा खेती करने की तरफ अग्रसर होने लगे है। टपका सिंचाई विधि द्वारा खेती करने पर जहां पानी की बचत होती है, वहीं इस विधि द्वारा पानी दवाईयां सीधे पौधे की जड़ में जाती है। कृषि विभाग भी किसानों को ड्रिप सिस्टम द्वारा सिंचाई करने के प्रति जागरूक कर रहा है और इस विधि को अपनाने के लिए किसानों को सब्सिडी प्रदान कर रहा है। टपका सिंचाई विधि बागवानी की फसल अन्य फसलों के लिए लाभदायक विधि है। सिंचाई के दौरान पानी की बचत होती है, वहीं फसल के उत्पादन में भी बढोत्तरी होती है। इस विधि के अनुरूप पानी जरूरत के अनुसार पेड़ पौधों की जड़ में सीधे पहुंचता है। जिसके चलते फसल की पैदावार बढ़ती है। उद्यानिकी विभाग भोपाल के प्रभारी संचालक अनिल कुमार खरहे ने बताया टपक सिंचाई विधि के जरिए अपने खेतों में लगी फसलों की सिंचाई कर सकते हैं। सिंचाई के दौरान ड्रिप सिस्टम को चालू कर दिया जाता है। सिंचाई के दौरान ही पानी में दवा मिला दी जाती है जो पौधे की जड़ में जाती है। टपका सिंचाई विधि के बारे में जानकारी देते हुए बताया यह तकनीक इजराइल से हमारे देश में आई है। एक एकड़ फसल की सिंचाई करने के लिए जितने पानी की आवश्यकता पड़ती है उस पानी में इस विधि को अपनाने पर करीब बीस एकड़ में बागवानी की खेती की जा सकती है।

लघुसीमांत : 42700 रुपए अनुदान

15000 रुपए टॉपअप

अन्य श्रेणी : 29890 रुपए अनुदान 15000 रुपए टॉपअप

70% लघुसीमांत एससी-एसटी

65 सामान्य लघुसीमांत के लिए

55% सामान्य एससी-एसटी बड़ा कृषक (जिनकी जमीन दो हेक्टेयर से ज्यादा हो)

01 लाख रुपए टपक (ड्रिप) सिंचाई के लिए (16 एमएम नली)

1.35 लाख रुपए टपक (ड्रीप) सिंचाई के लिए (16 एमएम नली)

लोन : आईएसआई मार्क एक लाख रुपए तक लोन, लोन जमा करने की अवधि 5 साल, पात्रता : जिन किसानों के पास 1 हेक्टेयर कृषि भूमि हो।

कृषि विभाग राष्ट्रीय कृषि विकास योजना
उद्यानिकी विभाग
टपक (ड्रिप) सिंचाई : 80,000 रु.

विभागवार सब्सिडी और इतना मिलेगा लोन
खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आसपास का वातावरण सुखद बना रहेगा। प्रियजनों के साथ मिल-बैठकर अपने अनुभव साझा करेंगे। कोई भी कार्य करने से पहले उसकी रूपरेखा बनाने से बेहतर परिणाम हासिल होंगे। नेगेटिव- परंतु इस बात का भी ध...

    और पढ़ें