• Hindi News
  • National
  • प्याज नुकसानी पर विधायक बोले किसान सब्र करते तो फायदा होता

प्याज नुकसानी पर विधायक बोले किसान सब्र करते तो फायदा होता

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
अनाज मंडी में शनिवार को ब्लॉक स्तरीय कृषि संगोष्ठी हुई। वैज्ञानिकों और कृषि अफसरों ने किसानों को कृषि संबंधित जानकारियां दी। मुख्य अतिथि विधायक बालकृष्ण पाटीदार ने प्रदेश सरकार के करोड़ों रुपए के खरीदी के बाद खराब हुए प्याज पर नाराजगी जताई। उन्होंने किसानों को सीख दे डाली। किसान थोड़ा सब्र करते तो उन्हें फायदा भी होता और प्याज महंगा भी नहीं होता।

संगोष्ठी में विधायक ने कहा सरकार भावांतर योजना से किसानों को उपज का कम दाम मिलने का दम भरने का काम कर रही है। तीन माह पहले प्रदेश में प्याज की बंपर आवक और समर्थन मूल्य की खरीदी के बाद सरकार के करोड़ों रुपए के नुकसान पर विधायक ने कहा 8 रुपए किलो सरकार ने खरीदा था। जून-जुलाई में किसान प्याज रख लेता तो ज्यादा दाम मिलते। सरकार के पास वेयर हाउस में रखने की जगह नहीं थी। करोड़ों रुपए का प्याज सड़ गया। साथ ही बाजार में 25 रुपए किलो प्याज हो गया। इससे किसानों के साथ सरकार का भी नुकसान हुआ। इसलिए सरकार ने प्याज खरीदी नहीं करने का निर्णय लिया है। विधायक ने किसानों को कहा कि अब भविष्य में प्याज को सहेजकर रखे ज्यादा दाम मिलेंगे। जिले में ड्रीप सिंचाई योजना से खेती को लाभ का धंधा बनाया जा सकता है। उबड़-खाबड़ जमीन भी उपजाऊ हो जाती है।

वरिष्ठ कृषि वैज्ञानिक डॉ. एमएल शर्मा, डीडीए एमएल चौहान ने संबोधित करते हुए फसल चक्र, मिट्टी परीक्षण और जैविक खेती के बारे में जानकारियां दी। संचालन राजकुमार शर्मा ने किया। जनपद पंचायत अध्यक्ष रमेश चौहान, मंडी उपाध्यक्ष छोटू कुशवाह, डॉ. वायके जैन, परियोजना संचालक आत्मा एमएल वास्केल, डॉ. योगेंद्र जैन, डॉ. एमके खीरे, डॉ. एचसी पटेल, संतोष पाटीदार, राजेश रावत, कैलाश माली आदि मौजूद थे।

किसानों को भावांतर प्रश्नोत्तरी के पुरस्कार देते हुए विधायक बालकृष्ण पाटीदार।

भावांतर योजना के लिए हुई प्रश्नोत्तरी
किसानों की जागरुकता के लिए भावांतर योजना से संबंधित प्रश्नोत्तरी हुई। किसानों से भावांतर योजना के विषय में प्रश्न पूछे गए। सही जवाब देने वाले किसान को तत्काल लंच बाक्स (टिफिन) उपहार स्वरूप मिला। उपहार जीतने वालों में निमगुल के लोकेश यादव, बगूद के रामेश्वर शिवराम और अन्य किसान रहे।

भावांतर किसानों के लिए वरदान
मंडी सचिव श्रीवास्तव ने कहा मंडियों में उपज के भाव गिरने के बाद किसानों को नुकसान से बचाने के लिए प्रदेश सरकार की भावांतर भुगतान योजना का लाभ दिया जाएगा। इस योजना के लाभ के लिए किसानों को नामांकन होना जरूरी होगा। पंजीयन कराने के लिए 11 से 15 अक्टूबर तक का समय रखा गया है। भावांतर योजना के रजिस्ट्रेशन के लिए किसान कृषि उपज मंडी समिति, संस्था या सोसायटी पर ऋण पुस्तिका, आधार कार्ड, बैंक खाता पास बुक, समग्र आईडी आदि जरूरी कागजात साथ लेकर पहुंचे।

खबरें और भी हैं...