पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • फल अनुसंधान परियोजना : फलों की उन्नत किस्में तैयार करने पर मंथन

फल अनुसंधान परियोजना : फलों की उन्नत किस्में तैयार करने पर मंथन

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
महाराणाप्रताप कृषि प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के संघटक राजस्थान कृषि महाविद्यालय में चार दिवसीय ‘अखिल भारतीय समन्वित फल अनुसंधान परियोजना’ परिचर्चा गुरुवार को शुरू हुई। इसमें देशभर से 155 वैज्ञानिक भाग ले रहे हैं। फलों की उन्न किस्में तैयार करने, जलवायु की अनुकूलता, फलों में बीमारियों पर विचार रखे गए।

उद्यानिकी के विभागाध्यक्ष आयोजन सचिव डाॅ. आर.ए. कौशिक ने बताया कि अनुसंधान निदेशालय प्रसार शिक्षा निदेशालय की ओर से आयोजित दूसरी समूह परिचर्चा में विभिन्न तकनीकी सत्र हुए। सत्रों के तहत मंथन में जननद्रव्यों का संरक्षण किस्म उन्नयन पर चर्चा की गई। केला, नींबू, अंगूर, चीकू, अमरूद, लीची, कटहल, आम, पपीता आदि को लेकर विचार रखे। परियोजना प्रभारी डाॅ. प्रकाश पाटील ने कहा कि फल उत्पादन के नए आयाम जो किसान के उपयोगी हों, उन पर अनुसंधान करने की जरूरत है। अंगूर की एच-516, कटहल में पालूर-1 किस्मों को उत्पादन के हिसाब से बेहतर पाया गया। पहले दिन के कार्यक्रम में अध्यक्षता भारतीय बागवानी संस्थान बैंगलोर में उद्यान विभाग के अध्यक्ष डाॅ. एम.आर. दिनेश ने की। राष्ट्रीय पादप आनुवांशिकी ब्यूरो नई दिल्ली के डाॅ. एस.के. मलिक, कीट विज्ञान विभाग उदयपुर के विभागाध्यक्ष डाॅ. ओ.पी. आमेटा, केला अनुसंधान संस्थान त्रिची के निदेशक डाॅ. एम.एफ. मुस्तफा, केन्द्रीय उपोष्ण बागवानी संस्थान, लखनऊ के निदेशक डाॅ. शैलेन्द्र राजन मौजूद रहे।