• Hindi News
  • National
  • मंडी प्रांगण में बाहर रखा 1.15 लाख क्विंटल प्याज खुले में पड़ा होने से सड़ने की कगार पर

मंडी प्रांगण में बाहर रखा 1.15 लाख क्विंटल प्याज खुले में पड़ा होने से सड़ने की कगार पर

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
मंडी में शासकीय दर पर खरीदा गया प्याज परिवहन नहीं होने के कारण खराब हो रहा है। प्रांगण में 1.15 लाख क्विंटल प्याज खुले में पड़ा होकर प्रतिदिन बारिश से भीग रहा है। इसमें से अधिकांश प्याज खराब होकर सड़ने की कगार पर पहुंच चूका है।

पहले ही सरकार को प्याज की खरीदी 8 रु. किलो में करने एवं मात्र 2.15 पैसे प्रति किलो बेचने में करोड़ों रु. की चपत लग चूकी है और अब रही सही कसर बारिश में प्याज के भीगने से पुरी होती दिख रही है। बारिश से भीगने से भी मंडी में रखा करोड़ों रुपए का प्याज खराब होने की संभावना है। गुरुवार रात भर और शुक्रवार को दिन भर बारिश होने से अब हजारों क्विंटल प्याज सड़ चूका है। इसे डिस्पोजल करने की कार्रवाई अब तक प्रारंभ नहीं की है।

अभी दो दिनों से हो रही लगातार बारिश से तो हालात यही नजर आ रहे हैं कि अब प्याज की अधिक मात्रा में सड़कर खराब होगा। प्याज सड़ने से इसे खरीदीकर्ता द्वारा लिया नहीं जाएगा। वर्तमान में भी खरीदीकर्ता द्वारा छांट-छांटकर केवल अच्छे प्याज के बोरे ही लिए जा रहे हैं। मंडी परिसर में सड़े प्याज के कारण बदबू फैलने से परेशानी बनी हुई है। मंगलवार एवं बुधवार को शाम में 1-1 घंटे बारिश होने से प्याज पुरी तरह से भीग गया है। रखरखाव के लिए पर्याप्त व्यवस्था नहीं होने के चलते हजारों क्विंटल प्याज खुले में रखा होकर कई बार बारिश से भीग चुका है।

मंडी में रखा करोड़ों रुपए का प्याज खराब होने की आशंका है
2.37 में से 1.22 लाख क्विंटल का परिवहन ही हुआ
खरीदी समिति के प्रबंधक विंधेष मंडलोई ने बताया खरीदे गए 2.37 लाख क्विंटल प्याज में से अब तक कुल 1.22 लाख क्विंटल प्याज का परिवहन हुआ हैं। किसानों से 30 जून तक प्याज खरीदा गया था इसमें से 20 जून तक जिन किसानों से प्याज खरीदा गया था उसका भुगतान किया जा चूका है। 21 से लेकर 30 जून तक किसानों को शीघ्र भुगतान किया जाएगा।

प्याज खरीदने वाली कंपनी ने सात दिन में किया केवल 20 हजार क्विंटल का परिवहन :संगमनेर महाराष्ट्र की कंपनी जेके एक्सपोर्ट द्वारा मंडी में रखा प्याज 6 जुलाई को नीलामी में महज 2.15 पैसे प्रति किलो के भाव खरीदा था। प्याज की मात्रा करीब डेढ़ लाख क्विंटल थी। इसमें से भी कंपनी द्वारा 7 दिनों में मात्र 20 हजार क्विंटल प्याज ही उठाया गया है। इस प्रकार अब भी मंडी में करीब सवा लाख क्विंटल प्याज प्रतिदिन पानी में भीगकर सड़ता जा रहा है। प्याज के सड़ने एवं यहां वहां बोरों से प्याज बिखर कर प्रांगण में फैलने से उस पर से गाड़ियां गुजरने से कई क्विंटल प्याज खराब हो गया है।

राजगढ़. प्याज सड़कर मंडी में बदबू फैला रहे हैं जिससे किसान एवं अन्य व्यक्ति परेशान हैं।

खबरें और भी हैं...