• Hindi News
  • National
  • किडनी ट्रांसप्लांट के नहीं थे पैसे, दोस्त ने वाट्सएप पर मदद मांगी और 4 दिन में जमा हो गए 1.92 लाख

किडनी ट्रांसप्लांट के नहीं थे पैसे, दोस्त ने वाट्सएप पर मदद मांगी और 4 दिन में जमा हो गए 1.92 लाख

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
झाबुआ जिला पंचायत में डाटा एंट्री ऑपरेटर सुनील सक्सेना के किडनी ट्रांसप्लांट में अब पैसों की कमी बाधा नहीं बनेगी। एक दोस्त ने वाट्सएप के कई ग्रुप पर मदद की अपील की और चार दिन में 1 लाख 92 हजार रुपए जमा हो गए। आलीराजपुर के पूर्व कलेक्टर शेखर वर्मा ने मैसेज पढ़ा तो अस्पताल में अपनी ओर से एक लाख रुपए अलग से जमा करवा दिए। मंगलवार को इंदौर के निजी अस्पताल में सुनील का किडनी ट्रांसप्लांट है। किडनी प|ी रागिनी देंगी। 2013 में सुनील को किडनी खराब होने की जानकारी मिली थी। आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं थी, जैसे-तैसे उन्होंने इलाज करवाया। पिछले साल मार्च में सुनील को पता चला कि दोनों किडनी फेल हो चुकी है। हर चौथे दिन डायलिसिस होता था। किडनी ट्रांसप्लांट के लिए इंदौर के चोइथराम अस्पताल ने 3.76 लाख का एस्टीमेट दिया। दवा-गोली और सहित इतना ही दूसरा खर्च भी था। मुख्यमंत्री सहायता कोष से 2 लाख रुपए स्वीकृत हुए। शेष रकम के लिए साथी कर्मचारियों ने मदद का भरोसा दिलाया। 27 जनवरी को एक साथी ने वाट्सएप ग्रुप पर मैसेज डालकर सहयोग की अपील कर दी। 500 रुपए से 5000 रुपए तक की सहयोग राशि देने लोग आगे आ गए। सोमवार शाम तक 1 लाख 92 हजार रुपए जमा हो गए।

सुनील सक्सेना

खबरें और भी हैं...