पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • विशेष एटीकेटी परीक्षा : 18 कॉलेजों के विद्यार्थियों के लिए सिर्फ एक केंद्र, पेपर देने आने जाने में

विशेष एटीकेटी परीक्षा : 18 कॉलेजों के विद्यार्थियों के लिए सिर्फ एक केंद्र, पेपर देने आने-जाने में ही 200 रुपए खर्च

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
परीक्षार्थी बोले- ये कैसी व्यवस्था, कॉलेज हमारे यहां भी है, वहीं परीक्षा ले लेते

भास्कर संवाददाता | शाजापुर

स्नातकोत्तर तीसरे-चौथे और स्नातक पांचवे-छठे सेमेस्टर की विशेष एटीकेटी परीक्षा लेने विक्रम विश्वविद्यालय ने मनमानी की है। शाजापुर व आगर-मालवा मिलाकर जिले में 18 सरकारी-निजी कॉलेज होने के बाद भी इस परीक्षा को कराने के लिए जिले का एकमात्र केंद्र सिर्फ शाजापुर के लीड बीएसएन कॉलेज को बना दिया। 25-90 किमी तक के दूरस्थ क्षेत्रों के युवाओं के पेपर देने यहां ट्रेन/बस से आने में ही 150-200 रुपए खर्च हो रहे हैं। तीन घंटे के चक्कर में पूरा दिन बर्बाद होता है। परीक्षा समय सिर्फ दोपहर 2 से शाम 5 बजे तक होने से समय पर घर पहुंचना छात्र-छात्राओं के लिए खासा मुश्किल हो रहा है। बारिश तेज हो जाए तो रात 9 बजे तक भी घर पहुंच पाएं या नहीं, कुछ नहीं कह सकते। 20 जुलाई से परीक्षाएं शुरू हुई है जो 10 अगस्त तक चलेंगी।

परीक्षा देने लीड कॉलेज पहुंचे शुजालपुर के लोकेश रजक, कालापीपल के राहुल मेवाड़ा, पूजा मेवाड़ा, ज्योति परमार, उमा पाटीदार, सुसनेर के रविराज सिंह ने बताया हमारे यहां भी सरकारी कॉलेज हैं। परीक्षा केंद्र इतनी दूर लीड कॉलेज में क्यों बनाया, समझ से परे है। आने-जाने में ही 200 रु. तक खर्च हो जाते हैं। सुबह 8 बजे घर से निकलते हैं तो घर पहुंचने तक रात की 9 बज जाती है। केंद्र हमारे नगर के कॉलेज होते तो परेशानी नहीं आती।

बीएससी के पेपर से कराना पड़ी बीए, बी.कॉम. परीक्षा- परीक्षा केंद्राध्यक्ष डॉ. केशवमणि शर्मा ने बताया गुरुवार को बीएससी, बीए व बी.काॅम. के लिए आधार पाठ्यक्रम की परीक्षा थी। विवि से आए लिफाफे पर तीनों कक्षाएं प्रिंट थी। खोलने पर अंदर सिर्फ बीएससी के पेपर निकले। कुलसचिव से चर्चा की तो उन्होंने कहा इसी से दोनों की परीक्षा करा लो। मजबूरीवश एक ही पेपर से तीनों कक्षाओं की परीक्षा लेना पड़ी।

विवि रजिस्ट्रार डॉ. परीक्षित सिंह

परीक्षा के लिए स्कूलों से बुलाने पड़ रहे शिक्षक
लीड कॉलेज प्रभारी प्राचार्य डॉ. वी.के. शर्मा ने बताया टीचिंग सेक्टर में 40 में से 21 पद खाली हैं। 19 में से कई सदस्य ऑनलाइन प्रवेश प्रक्रिया व अन्य कामों में व्यस्त हैं। परीक्षा करवाने स्कूली शिक्षा विभाग से 30 शिक्षकों की बारी-बारी से ड्यूटी लगाने सूची मंगवाई है। जरूरत के समय संपर्क करके बुला रहे हैं। सभी जगह कॉलेज होकर भी विवि ने जिलेभर के युवाओं की विशेष एटीकेटी परीक्षा कराने जिम्मा हमें थोप दिया। खुद परेशान हैं, क्या करें।

सवाल : जिले में परीक्षा का एक केंद्र होने से परेशानी है, आपको पता है।

जवाब : तय तारीखों पर एक-दो पेपर ही होने हैं, इसमें परेशानी क्या।

सवाल : परीक्षा के लिए एक ही केंद्र क्यों बनाया गया।

जवाब : यह स्पेशल एटीकेटी परीक्षा है। यह सुविधा दी है, यही बहुत है।

सवाल- : अधिकांश नगरों में कॉलेज है तो वहां केंद्र क्यों नहीं बनाए गए।

जवाब : एक-दो सेकंड इंतजार किया...., फिर फोन काट दिया।

शुक्रवार को स्नातक स्तर परीक्षार्थी एकमात्र केंद्र लीड कॉलेज में परीक्षा देते हुए।

खबरें और भी हैं...