• Hindi News
  • National
  • भजन गायिका संजू बंघेल व रुचि तिवारी के भजनों की प्रस्तुति से गूंज उठा पंडाल

भजन गायिका संजू बंघेल व रुचि तिवारी के भजनों की प्रस्तुति से गूंज उठा पंडाल

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
अब तक 10 करोड़ 84 लाख शिवलिंग का हुआ निर्माण
चिंतन जीवन की विसंगतियों को दूर करता है: दद्दा जी
भास्कर संवाददाता | दमोह/बांदकपुर

बांदकपुरधाम में चल रहे सवा पांच करोड़ शिवलिंग निर्माण के पांचवे दिन यज्ञ पंडाल में आस्था का जनसैलाब उमड़ पड़ा। भजन संध्या में गायिका संजू बघेल एवं उप्र ललितपुर की भजन गायिका रूचि तिवारी द्वारा प्रस्तुत भजनों की प्रस्तुति ने उपस्थित अपार जनसमूह को नाचने पर विवश कर दिया।

इस अवसर पर दद्दा जी ने कहा कि हमारा जीवन त्रिगामी है, जो हमारे जीवन की यात्रा का प्रतीक है। अग्रगामी गुरु, सहगामी मित्र एवं अनुगामी सेवक है। यदि यह तीनों अपने अपने धर्म से कर्म से चलते हैं तो हमारी जीवन यात्रा सफल है।

उदयांचल से अस्तांचल की यात्रा करते रहने मात्र से कुछ न पा पाओगे। यदि ऐसा करोगे तो तुम जिस सोच क्रोध, हिंसा, द्वेश को लेकर गए थे उसी को वापिस लेकर आ जाओगे। जीवन को इस व्यर्थवाद से बचाओ। चिंतन हमारे जीवन की विसंगति को दूर करता है। उन्होंने महाभारत के एक प्रसंग सुनाते हुए कहा कि द्रोपदी का चीरहरण हो रहा था। वह चिल्ला रही थी। पितामह भीष्म, गुरू द्रोणाचार्य, पांच पांडवों में से कोई भी उसकी सहायता करने नहीं आता है। लेकिन उसके चिंतन में मां सरस्वती की कृपा से स्मरण आता है कि इन्हें पुकारने से कुछ नहीं होगा, उन्हें पुकारो जिन्हें संसार पुकारता है। तब द्रोपदी ने पुकारा हे कन्हैया मेरी लाज़ बचाओ तो कन्हैया ने आकर लाज बचाई। दस हजार हाथियों का बल धारण करने वाला दुःशासन दस गज की साड़ी को नहीं खींच पाया उसकी लंबाई को नहीं नाप पाया। दद्दाजी ने कहा कि आपकी जीवन नौका इतनी जर्जर हो चुकी है कि जिसमें काम, क्रोध, मद, लोभ के छेद है फिर भी हमें मंजिल मिल सकती है यदि हमारे भजन में चिंतन है।

शिवलिंग निर्माण के पांचवें दिन शुक्रवार को 1 करोड़ 84 लाख 581 शिवलिंग निर्माण हुए। जिन्हें मिलाकर अब तक कुल 10 करोड़ 96 लाख शिवलिंग निर्माण हो चुके हैं। जो अपने आपमें एक रिकार्ड है। दद्दा शिष्य मंडल के प्रवक्ता वीरेंद्र गौर ने बताया है कि पांचवें दिन यज्ञ पंडाल छोटा पड़ गया। श्रृद्धालुओं ने यज्ञ स्थल के मैदान और सड़क पर ही शिवलिंग निर्माण किए। कोपर की संध्या कम हो गई तो महिलाओं ने साड़ी के पल्लू में ही शिवलिंग निर्माण किए। भक्तिभाव के ऐने अनूठे पहलू को देखकर दद्दाजी भी भाव-विभोर हो गए।

अमरनाथ के भोले

बाबा का शिवलिंग

रहा विशेष आकर्षण
इस दौरान भक्तों ने अमरनाथ के भोले बाबा के शिवलिंग विशेष आकर्षण का केंद्र रहे। सड़कों पर वाहनों का जाम तो सुना है पर जागेश्वर धाम बांदकपुर में मानव जाम की स्थिति बन गई। वाहनों को भीड़ वाले क्षेत्र में पुलिस ने प्रवेश प्रतिबंधित कर दिया। पचास हजार से अधिक श्रृद्धालु की उपस्थिति से बांदकपुर नगरी शिवमय हो गई। इस दौरान हजारों शिष्यों ने दद्दाजी से गुरूदीक्षा ली।

भक्तिभाव में झूम उठे श्रद्धालु

शाम को आयोजित भजन संध्या के दौरान डॉ. अनिल त्रिपाठी के भजनों की निराली छटा के साथ बुंदेलखंड की प्रसिद्ध भजन गायिका संजू बघेल के भजनों का भी भरपूर आनंद उठाया। इस दौरान राजपाल यादव ने मंच पर पहुंचकर भक्तिभाव में नाचने लगे। इसके साथ ही ललितपुर से आई रूचि तिवारी की प्रस्तुति ने पूरा पंडाल जयकाराें से गूंज उठा।

आरती करते दद्दाजी

बांदकपुर में चल रहे शिवलिंग निर्माण के दौरान आयोजित भजन संध्या में भजनों की प्रस्तुति देती प्रसिद्ध गायिका संजू बघेल।

खबरें और भी हैं...