पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • दस साल में 14 नोटिस फिर भी सरकारी क्वार्टर से नहीं हटे कब्जे

दस साल में 14 नोटिस फिर भी सरकारी क्वार्टर से नहीं हटे कब्जे

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
डाइट के तीन क्वार्टरों पर दबंगों का कब्जा, कब्जेधारियों में भाजपा नेता भी शामिल।

भास्करसंवाददाता| दतिया

डाइटके सरकारी क्वार्टर को खाली कराने के लिए प्रशासन दस साल में 14 नोटिस जारी कर चुका है। बेदखली समेत अनेक चेतावनी नोटिस जारी हो चुके हैं फिर भी डाइट के सरकारी क्वार्टरों से प्रशासन कब्जा नहीं हटा सका। इन तीन क्वार्टरों पर भाजपा नेता सहित तीन दबंग लोगों का कब्जा है। प्रशासन की कड़ी कार्रवाई नहीं होने से इन अवैध कब्जेधारियों के हौसले बुलंद हैं।

मालूम हो कि जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान (डाइट) के करन सागर के पास स्थित सरकारी आवासों को खाली कराने के लिए छात्रावास अधीक्षक द्वारा लगातार प्रशासन से गुहार लगाई जा रही है। इसके बाद भी प्रशासन कार्रवाई नहीं कर रहा है। पूर्व में प्रशासन ने बेदखली के आदेश जारी कर छात्रावास अधीक्षक को कब्जा लेने के लिए उपस्थित रहने के लिए भी कहा लेकिन नियत दिनांक पर तो अनुविभागीय अधिकारी ही कब्जा दिलाने मौके पर पहुंचे और नहीं कोई अन्य अधिकारी। जिसके कारण अतिक्रमणकारियों के हौसले बुलंद बने हुए हैं। स्थिति यह है कि कुछ अतिक्रमणकारियों द्वारा पास की खाली पड़ी शासकीय भूमि पर निर्माण कार्य भी कर लिया गया है।

कौन कहां काबिज

भारतीयजनता पार्टी के वरिष्ठ नेता रामकुमार त्यागी पिछले दस साल यानि 2004 से ए-वन ग्रेड अधिकारी के क्वार्टर क्रमांक एफ-वन पर अवैधानिक रूप से कब्जा किए हैं। जबकि वीरेंद्र सिंह तोमर निवासी ग्राम हिनौतिया ने आई-वन और भांडेर के राम मिलन यादव ने जी-टू क्वार्टर पर अवैध रूप से कब्जा कर रखा है। छात्रावास की आस पास खाली पड़ी जमीन पर अतिक्रमणकारी लगातार अपने पांव पसारते जा रहे हैं। वर्तमान में क्वार्टर और छात्रावास के पीछे की जमीन पर लगभग आधा दर्जन लोगों ने कच्चे निर्माण कर लिए हैं।

शासन की नहीं मिल रही मदद

^प्रशासनसरकारी आवासों को खाली कराने में मदद नहीं कर रहा है। मुझ पर पूर्व में जानलेवा हमला भी हो चुका है। बेदखली के आदेश जारी होने के बाद भी अवैध कब्जाधारियों को बेदखल नहीं किया गया। क्वार्टरों पर सत्तासीन भाजपा पार्टी के नेता समेत दो लोगों के कब्जे हैं। -राकेश अग्रवाल, छात्रावासअधीक्षक

कब्जाधारियोंपर होगी कार्रवाई

^मामलामेरे संज्ञान में नहीं है। मैं एसडीएम से जानकारी प्राप्त कर संबंधित कब्जाधारियों के खिलाफ उचित