पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • बॉक्स ऑफिस पर भिड़ेंगे ‘शौकींस’ आैर ‘रंग रसिया’

बॉक्स ऑफिस पर भिड़ेंगे ‘शौकींस’ आैर ‘रंग रसिया’

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
इसशुक्रवार को ‘द शौकींस’ आैर ‘रंग रसिया’ का प्रदर्शन हो रहा है। ‘द शौकींस’ 80 के दशक की बासु चटर्जी की ‘शौकीन’ का नया संस्करण है। पूरे विश्व के प्रिंट प्रचार के खर्च सहित निर्माता को फिल्म की लागत 45 करोड़ रुपए में बैठेगी। फिल्म के विदेश वितरण अधिकार आैर संगीत अधिकारों को बेच कर 5 करोड़ रुपए मिल चुके हैं। भारत में निर्माता खुद फिल्म वितरित कर रहा है अर्थात जोखिम उसके सर है। भारत में 50 करोड़ का ग्रॉस व्यवसाय होने पर निर्माता की पूंजी सुरक्षित हो जाएगी क्योंकि ऐसा अनुमान है कि प्रदर्शन के बाद इस फिल्म के सैटेलाइट टीवी अधिकारों के बदले उसे 18 से 20 करोड़ रुपए मिल जाएंगे। केतन मेहता की ‘रंग रसिया’ 19वीं शताब्दी के विवादित चित्रकार राजा रवि वर्मा के जीवन पर आधारित है। फिल्म चार वर्ष पूर्व बन कर तैयार थी परंतु कुछ कारणों से इसका प्रदर्शन नहीं हो सका। यह देरी फिल्म के लिए बेहतर साबित हुई क्योंकि कुछ वर्षों में सभी जगहों पर मल्टीप्लेक्स खुल जाने से अलग हट कर फिल्मों का भविष्य कुछ बेहतर हुआ है। दूसरी अच्छी बात यह है कि नायक रणदीप हुड्डा इसी कालखंड में अपनी पहचान स्थापित करने में कामयाब हुए।

पिछले सप्ताह प्रदर्शित दोनों ही फिल्मों ने निराश किया। एक अच्छे प्रथम प्रोमो के दम पर नए कलाकारों की संगीत विहीन फिल्म ‘रोर’ ने पहले दिन 2 करोड़ रुपए का ठीकठाक व्यवसाय किया। फिल्म अगर अच्छी बनी होती तो इस आेपनिंग के बाद आैर अधिक उठ जाती लेकिन निर्देशक ने एक फीचर फिल्म को डॉक्यूमेंट्री की तरह बनाया आैर पूरे सप्ताह का व्यवसाय केवल 10 करोड़ रुपए ही रहा। निर्माता को अपनी आधी पूंजी का नुकसान होगा। ‘सुपर नानी’ का प्रयोग इंद्र कुमार आैर अशोक ठाकरिया को बहुत भारी पड़ा। इस अच्छी पारिवारिक फिल्म को देखते समय दर्शक को एक टीवी सीरियल देखने का एहसास होता है। दूसरा निर्देशक का पूरा प्रस्तुतिकरण 80 के दशक की फिल्मों की तरह है जो आज के युवावर्ग के साथ तालमेल नहीं बैठा सका। 25 करोड़ रुपए की यह फिल्म सुपर फ्लॉप सिद्ध हुई। शाहरुख खान की ‘हैप्पी न्यू ईयर’ ने दूसरे वीकेंड पर बहुत अच्छा व्यवसाय कर उद्योग के विशेषज्ञों को आश्चर्यचकित कर दिया। दूसरे सप्ताह का ग्रॉस व्यवसाय 30 करोड़ रुपए रहा आैर दो सप्ताह में हिंदी संस्करण ने 170 करोड़ रुपए कमाए। अब ऐसा लगता है कि अकेले हिंदी संस्करण का लाइफ टाइम व्यवसाय 180