पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • त्रिमूर्ति चौराहे पर आदर्श सड़क से लगे भवनों की ढाई गुना कम गाइड लाइन से करवा दी रजिस्ट्री

त्रिमूर्ति चौराहे पर आदर्श सड़क से लगे भवनों की ढाई गुना कम गाइड लाइन से करवा दी रजिस्ट्री

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
त्रिमूर्ति चौराहे पर आदर्श सड़क से लगे भवनों की ढाई गुना कम गाइड लाइन से रजिस्ट्री करवा ली है। यह खुलासा रजिस्ट्रार कार्यालय के दल द्वारा मौका मुआयना करने पर हुआ है। मुख्य सड़क से लगे करीब 12 भवन ऐसे पाए गए, जिनमें गड़बड़ी पाई गई है। इन्हें नोटिस जारी किया है। इन्हें नए सिरे से निर्धारित गाइड लाइन अनुसार रजिस्ट्री कराने की चेतावनी दी है। ऐसे में मामलों में दोषियों के विरुद्ध भारतीय स्टाम्प अधिनियम की धारा 64 के तहत एफआईआर के भी प्रावधान हैं। यानी एफआईआर भी की जा सकती है।

दरअसल आदर्श सड़क से लगे ये भवन व्यावसायिक उपयोग में लिए जा रहे हैं। जबकि निरीक्षण में पाया गया कि रजिस्ट्री कराते समय चतुर्सीमा में प्लॉट के आगे की तरफ मुख्य सड़क (इंदौर-अहमदाबाद मार्ग) का उल्लेख न करते हुए आम रास्ता लिख कर गुमराह किया गया। रजिस्ट्री मुख्य सड़क के पीछे वाली लाइन के आवासीय भवनों की गाइड लाइन अनुसार करवा ली है।

ढाई गुना स्टाम्प ड्यूटी चोरी
गड़बड़ी के नोटिस जारी कर दिए हैं
त्रिमूर्ति चौराहा क्षेत्र में मिली गड़बड़ियों को लेकर नोटिस जारी कर दिए गए हैं। सभी को नए सिरे से सही गाइडलाइन से रजिस्ट्री करवानी होगी। विभाग के निर्देशानुसार कार्रवाई की जाएगी। निर्देश तो ये भी हैं कि अभियाेजन की कार्रवाई की जाए। यूसी बाजपेई, वरिष्ठ जिला प्रबंधक

वर्तमान में मुख्य सड़क पर व्यावसायिक भवन की रजिस्ट्री की गाइडलाइन 5200 रु. प्रति स्क्वेयर फीट है। जबकि सड़क से पीछे की लाइन में आवासीय भवनों की गाइड लाइन 2100 रु. प्रति स्क्वेयर फीट है। यानी ढाई गुना कम है। विभाग भी यह मान कर चल रहा है कि रजिस्ट्री करवाते समय प्लॉट के अग्र भाग में इंदौर-अहमदाबाद मार्ग होने की जानकारी छुपा कर ढाई गुना स्टाम्प ड्यूटी चोरी की है। विभाग ने ऐसे सभी 12 मकान मालिकों को नोटिस जारी कर दिए हैं।

व्यावसायिक भवन की रजिस्ट्री की गाइड लाइन 5200 रु. प्रति स्क्वेयर फीट
अभी त्रिमूर्ति चौराहे पर हुई कार्रवाई जल्द अन्य इलाकों में भी पहुंच सकता है दल
त्रिमूर्ति चौराहे के भवन जिनमें दुकानें संचालित हो रही हैं। जिनकी रजिस्ट्री आम रास्ता बताकर करवाई गई।

स्टाम्प ड्यूटी चोरी की कई शिकायतें शहर में सामने आ रही थीं। इसके अलावा एक ताजा निर्देश सभी जिला पंजीयकों को जारी किए गए हैं। इसमें उन्हें जानकारियां छुपा कर स्टाम्प ड्यूटी बचाने के प्रकरण पकड़ने के लिए मौका मुआयना करने के निर्देश दिए हैं। अभी शहर में त्रिमूर्ति चौराहे पर ही कार्रवाई की है। जल्द ही अन्य इलाकों पर भी दल पहुंच सकता है।

शहर में इस तरह से स्टाम्प ड्यूटी चोरी करने के कई मामले

राजबाड़ा क्षेत्र में धर्मदास नगर को महात्मा गांधी मार्ग की बजाय कालिका मार्ग पर दर्शा कर नामांतरण करने और ऐसा कर स्टाम्प ड्यूटी चोरी करने की शिकायत की थी। इस मामले में बीते दिनों ही तत्कालीन सीएमओ संजय मेहता पर 19 लाख रु. की वसूली निकाली है।

धारेश्वर मार्ग पर निर्माणाधीन एक शॉपिंग कॉम्प्लेक्स को लेकर भी शिकायत दर्ज करवाई थी। धारेश्वर मुख्य मार्ग पर होने के बावजूद इसे दत्त गली में दर्शा कर रजिस्ट्री करवाई गई है।

नपा, उपभोक्ता भंडार समेत सरकारी/सहकारी संस्थाओं द्वारा बनाए गए शॉपिंग कॉम्प्लेक्स में निर्धारित शुल्क के बजाय 100 रुपए के स्टॉम्प पर दुकानों की खरीदी-बिक्री के अनुबंध किए गए थे। भास्कर के खुलासे के बाद दुकानों के रजिस्टर्ड अनुबंध शुरू हो गए हैं।

खबरें और भी हैं...