पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • National
  • विधवा शिक्षिका ने भिखारी की तकलीफें सुन अपना सब कुछ बेच खोला वृद्धाश्रम

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

विधवा शिक्षिका ने भिखारी की तकलीफें सुन अपना सब कुछ बेच खोला वृद्धाश्रम

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
मारवाड़ जंक्शन निवासी शिक्षिका ऊषा सापेला के घर एक वृद्ध भीखा मांगने आया तो उनका जीवन का ध्येय ही बदल गया। बातों-बातों में वृद्ध ने अपनी तकलीफें बताई तो बुजुर्गों की सेवा के लिए उन्होंने वृद्धाश्रम खोलने का निर्णय ले लिया। हादसे में पति को खोने के बाद दो बच्चों की परवरिश करने के साथ ऊषा ने इतना बड़ा फैसला तो कर दिया, लेकिन इसके लिए राशि भी जुटानी थी। आखिरकार शिक्षक पति के निधन के बाद विभाग से मिली राशि, पैतृक संपत्ति व खुद के जेवर तक बेच दिए। इसके बाद भी रुपयों की जरूरत हुई तो ऊषा ने कुछ लोगों से उधारी लेने के साथ बैंक से भी लोन लिया। आखिरकार अब ऊषा की कल्पना साकार भी हो गई और उन्होंने अपने पति राधेश्याम की याद में दो बीघा जमीन पर वृद्धाश्रम खोल दिया। हालांकि इस पर कितना रुपया खर्च हुआ, ऊषा ने यह बताने से इनकार कर दिया। फिलहाल, यहां दो वृद्धजन रह रहे हैं, लेकिन ऊषा ने 15 वृद्धजनों के निशुल्क रहने का इंतजाम किया है। ऊषा का कहना है कि एक बहुत बजुर्ग व्यक्ति उनके घर के बाहर भोजन मांगने आया तो यह उनसे देखा नहीं गया। इसके बाद भी दो-तीन बार ऐसा वाक्या हुआ तो उन्होंने इन वृद्धजनों की देखभाल व सेवा के लिए वृद्धाश्रम खोलने का निर्णय लिया।

खुद बेटा बनकर की अपने माता-पिता की भी सेवा
शिक्षिका ऊषा सापेला अपने माता-पिता की भी इकलौती संतान थी। ऐसे में उन्होंने अपने माता-पिता की सेवा भी खूब की। वो अपने माता-पिता को भी अपने साथ ही रखती थी। साथ ही माता-पिता को कभी यह अहसास नहीं होने दिया कि उनके कोई बेटा नहीं है। उनका एक पुत्र घनश्याम सरकारी स्कूल में व्याख्याता है तो दूसरे पुत्र डाॅ. दिनेश का पिछले बैच में ही आरएएस में चयन हुआ है। वे वर्तमान में आसपुर, डूंगरपुर में सहायक कलेक्टर हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय निवेश जैसे किसी आर्थिक गतिविधि में व्यस्तता रहेगी। लंबे समय से चली आ रही किसी चिंता से भी राहत मिलेगी। घर के बड़े बुजुर्गों का मार्गदर्शन आपके लिए बहुत ही फायदेमंद तथा सकून दायक रहेगा। ...

    और पढ़ें