• Hindi News
  • National
  • जलाधारी में खामी, अभिषेक का दूध जल नहीं निकल रहा

जलाधारी में खामी, अभिषेक का दूध-जल नहीं निकल रहा

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भगवान पशुपतिनाथ प्रतिमा के आसपास डेढ़ क्विंटल चांदी से बनाई जलाधारी में बड़ी खामी सामने आई है। प्रतिमा पर होने वाले अभिषेक का जल व दूध जलाधारी में ही जमा हो रहा है।

प्रारंभिक रूप से देखने में सामने आया है कि जलाधारी की बनावट व लगाने के दौरान की अनदेखी के कारण उसका ढाल (झुकाव) जल निकासी की ओर नहीं है। मंदिर प्रबंधक राहुल रूनवाल का कहना है कि ठेकेदार ने इस भूल को स्वीकार करते हुए जल्द सुधारने की बात कही है। मंदिर समिति ने ठेकेदार का अंतिम भुगतान रोक लिया है। जब वह जलाधारी में यह सुधार करेगा तभी उसे पूरा भुगतान किया जाएगा। जलाधारी का निर्माण नासिक के बाफना ज्वैलर्स ने किया है। प्रबंधन ने निर्माण के लिए ठेकेदार से 25 रुपए प्रतिकिलो की दर तय की थी। इस हिसाब से ठेकेदार का पूरा भुगतान 3 लाख 75 हजार रुपए हुआ। प्रबंधन ने फिलहाल उसे 50 हजार रुपए का ही भुगतान किया है। फोटो- संजय जैन

चांदी की जलाधारी में जमा अभिषेक का दूध व जल।

भास्कर संवाददाता शामगढ़/सुवासरा

सावन में क्षेत्र से दो बड़ी कावड़यात्राएं निकलेंगी। पूरा क्षेत्र भोले की भक्ति में रमेगा। एक यात्रा सुवासरा से हरणेश्वर महादेव जाएगी ताे दूसरी शामगढ़ से धर्मराजेश्वर जाएगी। इसमें बच्चे, बूढ़े, युवक-युवतियां और महिलाएं बड़ी संख्या में भाग लेंगी। रास्तेभर कावड़यात्रियों का स्वागत किया जाएगा। कई स्थानों पर उनके लिए स्वल्पाहार की व्यवस्था रहेगी।

सुवासरा से हरणेश्वर महादेव मंदिर जाने वाली यात्रा सुबह आठ बजे 52 क्वार्टर स्थित नर्मदेश्वर महादेव मंदिर से शुरू होगी। यह प्रमुख मार्गाें से होती हुई घसोई स्थित हरणेश्वर महादेव मंदिर पहुंचेगी। यहां भगवान शिव का अभिषेक किया जाएगा। इसके बाद महाआरती होगी और प्रसादी बांटी जाएगी।

शहर से करीब 25 किमी दूर धर्मराजेश्वर मंदिर जाएगी यात्रा- शामगढ़ में तीसरे सोमवार को कावड़यात्रा निकलेगी। यहां पुराने बस स्टैंड स्थित शिव मंदिर से शुरू होगी जो नगर के प्रमुख मार्गाें से होकर गरोठ रोड होते हुए शहर से करीब 25 किलोमीटर दूर धर्मराजेश्वर मंदिर जाएगी। यहां शिवजी के अभिषेक के बाद भंडारा होगा।

सावन में शामगढ़ और सुवासरा से निकाली जाएंगी दो बड़ी कावड़यात्रा, सोमचार को भोले की भक्ति में रमेगा क्षेत्र
समस्या
खबरें और भी हैं...