• Hindi News
  • Madhya Pradesh News
  • Garoth
  • अधूरी आैर बिना रेलिंग के पुल-पुलियाएं खतरनाक, हर पल रहता हादसे का अंदेशा
--Advertisement--

अधूरी आैर बिना रेलिंग के पुल-पुलियाएं खतरनाक, हर पल रहता हादसे का अंदेशा

पुलिया सुधारने व रेलिंग लगाने के लिए चल रही है कार्रवाई नगर में भानपुरा रोड हो या बोलिया व खड़ावदा रोड पर बनी...

Dainik Bhaskar

Jan 10, 2018, 02:25 AM IST
पुलिया सुधारने व रेलिंग लगाने के लिए चल रही है कार्रवाई

नगर में भानपुरा रोड हो या बोलिया व खड़ावदा रोड पर बनी पुल-पुलिया, सभी खतरनाक स्थिति में है। कहीं रेलिंग नहीं है तो कहीं अधूरी रेलिंग हादसों का कारण बन रही है। नगर सीमा से लगी पुल-पुलिया ही नहीं शामगढ़, भानपुरा, सुवासरा और ग्रामीण क्षेत्रों की पुल-पुलिया की भी स्थिति ठीक नहीं है। भानपुरा रोड पर पिछले दिनों एक ट्रक नदी में गिरते-गिरते बचा जबकि बोलिया रोड पुलिया से तो चालक बाइक सहित नदी में गिर गए। हालांकि दोनों ही हादसों में कोई हताहत नहीं हुआ।

प्रमुख सड़कों की हालात किसी से छिपी नहीं है। कई जगह गड्ढे मिल जाएंगे। यही हालात इन मार्गों पर बने तमाम पुल व पुलियाओं के भी हैं। सबसे ज्यादा खराब हालात पुल-पुलिया की अाधी-अधूरी रेलिंग की है। वाहन चालक को दूर से रेलिंग सही तरीके से दिखती नहीं आैर वाहन को बचाने के चक्कर में हादसों का कारण बन जाते हैं। कहीं पर इतना घुमावदार मोड़ वाला रोड और उसके बाद पुलिया पर रेलिंग नहीं होने से आए दिन हादसे होते हैं। इन मार्गों से निकलने आैर हादसों की जानकारी होने के बाद भी कोई कदम नहीं उठाए जा रहे हैं।

बोलिया की तरफ से 9 दिसंबर 2017 काे शाम करीब 4.30 बजे बाइक सवार पिता-पुत्र आ रहे थे। अंधा मोड़ होने आैर रेलिंग नहीं होने के कारण रफ्तार काबू नहीं हो पाई आैर बाइक सहित अंजनी नदी में जा गिरे। इसमें पुत्र हेमराज और उसका पिता बंशीलाल मीणा निवासी छोटी देथली घायल हो गए। पास में ही खेत में कार्य करने वाले रामलाल धाकड़ ने बताया यहां हर दूसरे दिन काेई न कोई दुर्घटना का शिकार होता है। सबसे ज्यादा बाइक सवार। बसों के साथ ट्रक और अन्य भारी वाहन भी तेज गति से निकलते हैं।

आए दिन हादसे-बाइक सहित नदी में गिरे पिता-पुत्र

भानपुरा रोड : ट्रक रेलिंग में घुस गया

इसी प्रकार भानपुरा रोड स्थित कुंडालिया चरणदास मुख्य रोड के पुल पर 29 दिसंबर 2017 को हादसा हो गया। भानपुरा की तरफ से आ रहा सीमेंट से भरा ट्रक क्रमांक-अारजे27जीबी1638 नदी में गिरते-गिरते बच गया। ड्राइवर यदि रेलिंग पर नहीं चढ़ाता तो पुल की गेप से ट्रक नदी में गिर जाता। इसी प्रकार इसी मार्ग पर सुनारी चौराहे पर फर्शियों से भरा ट्रक रेलिंग तोड़कर पुलिया से नीचे जा गिरा। हादसे में ट्रक की पूरी बॉडी के टुकड़े-टुकड़े हो गए। दुर्घटना में चालक की मौके पर ही मौत हो गई।

दोनों तरफ अंधा मोड़

पुल-पुलिया के दोनों तरफ गेप


बोलिया रोड स्थित अंजनी नदी पर बनी सालों पुरानी पुलिया के दोनों तरफ अंधा मोड़ है। यह पुलिया रेलिंगविहीन होने से हर दम हादसों का डर रहता है। इस पुलिया पर सबसे ज्यादा हादसे होते हैं। गरोठ साइड से जाने वाले को 50 फीट दूरी से भी पुलिया नहीं दिखाई देती है, यही स्थिति बोलिया या पावटी रोड की तरफ से आने वाले वाहन चालक की होती है। यदि कोई तेज गति से वाहन चलाकर ला रहा है और यदि वह परफेक्ट ड्राइवर नहीं है तो सीधे नदी में गिरने का अंदेशा बना रहता है।

हालात यह हैं कि इन पुल-पुलिया के दोनों साइड में गेप हैं। भानपुरा रोड पर कुंडालिया चरणदास मुख्य रोड पर बने पुल पर रेलिंग तो है ही नहीं। यह जो क्षतिग्रस्त होने के साथ कॉर्नर पर करीब 10-10 फीट का गेप बन गई है। मोड़ पर जरा संतुलन बिगड़ा और वाहन इस गेम से नीचे नदी में गिर जाता है या ड्राइवर होशियार है तो वह वाहन को फंसा देता है। इससे नदी में गिरने के चांस कुछ कम हो जाते हैं। इस प्रकार के गेप लगभग प्रत्येक पुल-पुलिया के काॅर्नर पर देखने को मिल जाएंगे।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..