पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • पीआईसी : विभागों का बंटवारा, नए चेहरों को अहम जिम्मेदारी, परफॉर्मेंस सही नहीं रहा तो बदले जाएंगे

पीआईसी : विभागों का बंटवारा, नए चेहरों को अहम जिम्मेदारी, परफॉर्मेंस सही नहीं रहा तो बदले जाएंगे

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
काफी जद्दोजहद और लंबी रायशुमारी के बाद आखिर सोमवार को नगरपालिका पीआईसी (प्रेसिडेंट इन कौंसिल) में विभागों का बंटवारा हो गया। नपाध्यक्ष व संगठन ने नए चेहरों पर भरोसा जताकर उन्हें अहम जिम्मेदारियां दीं। वहीं दो बार या अधिक बार के पार्षदों को भी साधने का प्रयास किया। हालांकि एक वरिष्ठ पार्षद मंशानुसार विभाग नहीं मिलने से खफा है। साथ ही पीआईसी में जगह नहीं मिलने से नाराज पार्षदों को मनाने के लिए संगठन ने जगह निकालते हुए कहा परफॉर्मेंस सही नहीं रहा तो बदलाव हो सकता है। खुले तौर पर कुछ स्पष्ट नहीं किया लेकिन संकेत हैं कि डेढ़ साल के कार्यकाल बाद पीआईसी में बदलाव संभव है।

नगरपालिका अध्यक्ष अनिल दसेड़ा ने सोमवार को पीआईसी की सलाहकार समितियों का गठन कर उनके प्रभारी नियुक्त किए। पीआईसी पार्षदों को सभापति बनाने के साथ ही प्रत्येक विभाग की सलाहकार समितियों में पांच-पांच अन्य पार्षदों को सदस्य मनोनीत किया। पीआईसी गठन के दौरान 5 से अधिक पार्षद नाराज हो गए थे, बाद में उन्हें भाजपा पदाधिकारियों ने यह कहते हुए मना लिया कि अभी तीन साल का कार्यकाल बाकी है। इस आश्वासन में कहीं स्पष्ट नहीं है कि डेढ़ साल बाद पीआईसी के चेहरे बदले जाएंगे। लेकिन सोमवार को विभाग बंटवारे के बाद इस बारे में पूछने पर भाजपा नगर मंडल अध्यक्ष महेश सोनी ने कहा काम की समय-समय पर समीक्षा होगी और परफॉर्मेंस अनुसार आगे बढ़ेंगे।

सभी मिलकर काम करेंगे। मंडल अध्यक्ष का यह बयान भी स्पष्ट नहीं है लेकिन इसमें नाराज पार्षदों को साधने के संकेत शामिल हैं। नपाध्यक्ष दसेड़ा ने यह कहकर खुद को अलग कर लिया कि संगठन की रायशुमारी अनुसार जो तय हुआ, वही निर्णय लिया। बाकी परफॉर्मेंस देखकर काम करेंगे। इधर वरिष्ठ पार्षद सुमन मेहता को उनकी मंशानुसार लोक निर्माण विभाग नहीं मिला। उन्होंने इस पर कमेंट करने से मना कर लिया लेकिन असंतुष्टी साफ झलक रही थी, क्योंकि लोनिवि के लिए उन्होंने काफी प्रयास किए थे।

किस विभाग में किसे मिली अहम जिम्मेदारी
प्रमिला धारीवाल

विभाग : शहरी गरीबी उपशमन।

काम : गरीबी उन्मूलन, स्वरोजगार योजनाएं व अन्य काम।

प्रभारी : पहली बार की पार्षद प्रमिला धाड़ीवाल।

सदस्य : रमेश ररोतिया, नूर हुसैन, पिंकी यादव, जैनब बोहरा, राजू खराड़ी।

सुमन मेहता

विभाग : स्वच्छता, ठोस अपशिष्ट प्रबंधन।

काम : सफाई व्यवस्था बेहतर करना, कचरा व ठोस अपशिष्ट प्रबंधन।

प्रभारी : तीन बार की वरिष्ठ पार्षद सुमन मेहता।

सदस्य : रमेश ररोतिया, अब्दुल हकीम, जैनब अब्बास अली, भूरी बी, मेहमूद पेपा।

घनश्याम सोलंकी

विभाग : लोक निर्माण, उद्यान, विद्युत।

काम : निर्माण कार्य, बगीचों का विकास, प्रकाश व्यवस्था बेहतर करना।

प्रभारी : दो बार के पार्षद घनश्याम सोलंकी को बनाया।

सदस्य : राजू खराड़ी, नसीम बी, पिंकी यादव, रशीदा बी, दिनेश सैनी।

विद्या कांठेड़

विभाग:योजना, यातायात परिवहन,सूचना प्रौद्योगिकी

काम : कार्यों की प्लानिंग, यातायात सुधार, संचार माध्यम को मजबूत बनाना।

प्रभारी : पार्षद विद्या कांठेड़ को बनाया है।

सदस्य : चंचल गादिया, नसीम बी अनु मलिक, नसीम बी मुन्ना शाह, शाहीन खान, सुधीर कोचट्टा।

तेजूब हुसैन

विभाग : राजस्व, वित्त, लेखा।

काम : कर वसूली प्रक्रिया सरल करना, वित्तीय प्रबंधन, लेखा संधारण।

प्रभारी : तीन बार के पार्षद तेजूब हुसैन को बनाया है।

सदस्य : अजयसिंह भाटी, नूर हुसैन, चंचल गादिया, इब्राहिम मंसूरी, दुर्गा विजवा।

कौशल्या यदुवंशी

विभाग : सामान्य प्रशासन।

काम : प्रशासनिक व्यवस्था का प्रबंधन, प्रशासनिक कार्यों का बंटवारा।

प्रभारी : पहली बार पार्षद बनी कौशल्या यदुवंशी को बनाया।

सदस्य: अब्दुल हकीम, सेराज बी, नसीब बी, ओ.पी. धाकड़, शाहीन खान।

मोड़ीराम धाकड़

विभाग : जलकार्य एवं सीवरेज।

काम : जलापूर्ति व्यवस्था का संचालन व सीवरेज सिस्टम डेवलप करना।

प्रभारी : पहली बार पार्षद बने मोड़ीराम धाकड़ को बनाया गया।

सदस्य : अजयसिंह, सेराज बी, नसीम बी, मुस्तकीम मंसूरी, विद्या धाकड़।

खबरें और भी हैं...