पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • 45 मिनट की बारिश में सड़कों पर एक फीट पानी, निकासी का अभाव

45 मिनट की बारिश में सड़कों पर एक फीट पानी, निकासी का अभाव

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
आपदा प्रबंधन की बैठक के बाद भी शहर में जल निकासी की व्यवस्था दुरुस्त नहीं की गई। नतीजतन 45 मिनट की बारिश में शहर तालाब बन गया था। यदि बादल दो घंटे बरस जाते तो शहर में बाढ़ जैसी स्थिति बन जाती। खास बात यह है कि जिस नपा पर शहर में बारिश के दौरान व्यवस्था संभालने की जिम्मेदारी है, उसके प्रांगण में ही बारिश के दूसरे दिन शुक्रवार को भी तीन फीट तक पानी जमा रहा और पानी में से ही आम लोगों को नपा कार्यालय में पहुंचना पड़ा। इससे ही साफ है कि जिम्मेदार बारिश में जलभराव की समस्या के प्रति कितने गंभीर हैं। इसलिए आमजन प्रशासन की अपेक्षा अपनी सुरक्षा के इंतजाम खुद करें।

गुरुवार शाम 4.40 बजे बारिश की झड़ी लगी थी। 45 मिनट की बारिश में ही 1 इंच बारिश हो गई थी। जिससे नालियां ओवर फ्लो हो गई थी और शहर की सभी सड़कों पर करीब 1 से 2 फीट तक पानी जमा हो गया था। शहर में जल भराव की स्थिति जल निकासी की उचित व्यवस्था नहीं होने से बनी थी। जबकि जून माह में आपदा प्रबंधन की बैठक में एसडीएम ने निर्देश देकर जल निकासी की व्यवस्था दुरुस्त करने के निर्देश दिए थे। लेकिन जिम्मेदार नपा ने ध्यान नहीं दिया, इस वजह से ही शहरवासियों को 45 मिनट की बारिश में ही परेशान होना पड़ा।

लोक निर्माण विभाग के सभापति हरीश अग्रवाल ने बताया कि महिदपुर रोड पर नाले का निर्माण कार्य चल रहा है। इसी वजह से बारिश के पानी की निकासी नहीं हो पाई है। एक सप्ताह में उसका निर्माण कार्य पूरा हो जाएगा, जिसके बाद बारिश का पानी रुकेगा नहीं और सड़कों पर जलभराव की स्थिति भी खत्म हो जाएगी।

तो झुग्गी बस्ती से पहले मंडी क्षेत्र में घुसेगा पानी
तेज बारिश होने पर सबसे पहले झुग्गी बस्ती व निचले इलाकों में पानी बढ़ने का खतरा रहता है। लेकिन 45 मिनट की बारिश में निचले क्षेत्र की अपेक्षा शहरभर में जलभराव हुआ। अगर अभी भी नपा के जिम्मेदार जागे नहीं और निकासी की व्यवस्था दुरुस्त नहीं की तो तेज बारिश में निचली बस्ती से पहले शहर के मकानों में बारिश का पानी घुसने से इनकार नहीं किया जा सकता है।

नपा को निर्देश दिए हैं
शहर में जलभराव की स्थिति को देखकर नगर पालिका को जल निकासी की उचित व्यवस्था करने के निर्देश दिए गए हैं। रमेश सिसौदिया, तहसीलदार, नागदा

नगर पालिका परिसर में शुक्रवार को जमा पानी और उसमें से निकलती बुजुर्ग महिला।

खबरें और भी हैं...