• Hindi News
  • National
  • डेंगू व मलेरिया रोकने के लिए गांवों में सफाई व मरीजों पर रखने के निर्देश

डेंगू व मलेरिया रोकने के लिए गांवों में सफाई व मरीजों पर रखने के निर्देश

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जिला मलेरिया एवं स्वास्थ्य अधिकारियों सहित सरपंच, सचिव और रोजगार सहायकों की बैठक शुक्रवार को कन्या हाईस्कूल परिसर में एसडीएम वंदना मेहरा की अध्यक्षता में हुई। इसमें डेंगू और मलेरिया से बचाव के साथ पंचायतों में साफ सफाई सहित बुखार पीड़ित मरीजों की तत्काल जांच करवाने के लिए कहा। उन्होंने स्वास्थ्य अधिकारियों को निर्देश दिए कि इसमें किसी तरह की कोताही नहीं बरती जाए। जिन गांवों में पिछली बार डेंगू के मरीज सामने आए थे उन क्षेत्रों पर विशेष ध्यान देने काे कहा। नगर परिषद के स्वास्थ्य विभाग से जुड़े अधिकारियों को भी साफ-सफाई विशेष ध्यान देने को कहा। जिला मलेरिया अधिकारी सरिता सिंधारे ने डेंगू और मलेरिया फैलने के कारण तथा उसके बचाव की जानकारी दी। मलेरिया निरीक्षक राजेंद्र सिंह मंडोतिया, नप के श्याम टांकवाल मौजूद थे।

दूसरे चरण में विधायक कैलाश चावला और एसडीएम ने पंचायतों में हुए विकास कार्य तथा जो काम प्रगति पर है उनकी जानकारी प्राप्त की। विधायक ने कहा जिन कामों में विभागों को किसी तरह की परेशानी आ रही है तो जनपद अधिकारी रिपोर्ट तैयार कर एसडीएम को प्रस्तुत करें। उन्होंने गांवों में होने वाले पौधरोपण कार्यक्रम में कोताही नहीं बरती के निर्देश दिए। बारिश शुरू हो गई है इस दौरान अधिक अधिक गांवों में पौधरोपण कर उनकी सुरक्षा व्यवस्था की जिम्मेदारी भी दी जाए। ताकि अगले वर्ष तक क्षेत्र में यह पौधे पेड़ बन सके। जनपद सीईओ डीएस सिसौदिया, खंड पंचायत अधिकारी गोपालकृष्ण परिहार, आईईएस के उपयंत्री मौसम मंडवारिया, मनरेगा कार्यक्रम प्रभारी हरिराम रोशन, बिजली विभाग के सहायक यंत्री पीएन सिंधी, कनिष्ठ यंत्री अभिषेक रावल मौजूद थे।

बीमारियाें से बचाव के लिए सावधानी बरतें लोग
नीमच | डेंगू की बीमारी बारिश के समय होती है और सर्दी के मौसम आने तक रहती है। यह डेन नामक वायरस के कारण एडीज मच्छर के द्वारा फैलाई जाती है। वर्षाकाल में होने वाली बीमारी को सावधानियां बरतकर रोका जा सकता है। यह बात एसडीएम वंदना मेहरा ने कही। उन्होंने कहा डेंगू का मच्छर साफ ठहरे हुए पानी में उपजता है। बर्तनों में पानी भरकर नहीं रखें। टंकियों को ढंक कर रखे, जमे पानी पर केरोसिन या जला हुआ तेल डाले। घर में किसी को भी बुखार की शिकायत पर तत्काल जांच करवाए। घर के आस-पास कीटनाशक का छिड़काव कर मच्छरों को भगाने के लिए धुआं करें। सड़ी-गली सब्जी नाली या सड़क पर नहीं डालें। डेंगू के लक्षण 2 से 7 दिन बुखार, सिर दर्द, मांसपेशियों एवं जोड़ों में दर्द, आंखों में दर्द, खसरा जैसे दाने, छाती या हाथों में होने पर तत्काल चिकित्सक को दिखाकर उपचार लें।

खबरें और भी हैं...