पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • नगरीय प्रशासन ने नहीं दी मंजूरी, 400 करोड़ रु से अिधक के प्रोजेक्ट अटके

नगरीय प्रशासन ने नहीं दी मंजूरी, 400 करोड़ रु से अिधक के प्रोजेक्ट अटके

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
शहर के विकास के लिए नगर पालिका ने बीते पांच साल में सात बड़े प्रोजेक्ट प्रशासकीय स्वीकृति के लिए शासन को भेजे, लेकिन उनकी मंजूरी परिषद का कार्यकाल पूरा होने तक नहीं मिली।

भास्करसंवाददाता| मुरैना

चंबलवाटर प्रोजेक्ट, भूमिगत सीवर प्रोजेक्ट, ट्रांसपोर्ट नगर से लेकर नाला नंबर एक को पाटने से लेकर उस पर सड़क बनाने के करीब 400 करोड़ रुपए से ज्यादा के प्रोजेक्ट पर नगर पालिका का मौजूदा बोर्ड अपने कार्यकाल में निर्माण कार्य शुरू नहीं करा पाएगा। कारण है कि नगरीय प्रशासन विभाग ने आधा दर्जन से अधिक प्रोजेक्ट्स को अब तक प्रशासकीय स्वीकृति प्रदान नहीं की है।

बोर्डकांग्रेस का, सरकार भाजपा की : मुरैनाशहर के विकास से जुड़े प्रोजेक्ट्स के भोपाल में लटके होने का कारण सामने आया कि नगर पालिका का बोर्ड कांग्रेस का है और प्रदेश में 10 साल से सरकार भाजपा की है। नगर पालिका अध्यक्ष राजेश कथूरिया सहित उपाध्यक्ष प्रबल प्रताप मावई का कहना है कि प्रदेश सरकार को संशय रहा कि बड़े प्रोजेक्ट मुरैना के लिए स्वीकृत किए गए तो उसका श्रेय कांग्रेस के बोर्ड को मिलेगा जिससे भाजपा कमजोर होगी। इस कारण साल-सालभर से पेंडिंग प्रोजेक्ट, नया चुनाव आने तक मंजूर नहीं किए गए।

ट्रांसपोर्टनगर हाथ में लिया लेकिन काम शुरू नहीं :राज्य शासनके नगरीय प्रशासन विभाग ने मुरैना के ट्रांसपोर्ट नगर के प्रोजेक्ट को अपने हाथ में तो ले लिया लेकिन बीते चार महीनों में इस दिशा में राज्य शासन ने कोई कार्रवाई नहीं की है। इसलिए इस प्रोजेक्ट पर भी बीते पांच साल मेें कोई काम तय नहीं हो पाया।

चंबल वाटर प्रोजेक्ट : लागत ~98 करोड़

कबभेजा भोपाल : एकसाल पहले।

कार्यकी स्थिति : मुख्यमंत्रीकी अध्यक्षता वाले स्टेट वाइल्ड बोर्ड ने चंबल अभयारण्य क्षेत्र में निर्माण कार्य शुरू करने की एनओसी अब तक जारी नहीं की है।

इसकाये होगा असर : शहरके लोगों को प्रतिदिन 135 लीटर पानी नहीं दिया जा रहा है। कई गली-मोहल्लों में सुबह के वक्त सिर्फ 10 से 15 मिनट तक ही पानी की सप्लाई हो पा रही है।

नाला पटाव: लागत ~ 4.25 करोड़

कबभेजा : चारमाह पहले।

कार्यकी स्थिति: विधायकरुस्तम सिंह की प्राथमिकता में शामिल इस प्रोजेक्ट को नगरीय प्रशासन ने अब तक मंजूर नहीं किया है।

येहोगा असर : कब्रिस्तानरोड से लेकर मुरैना बायपास रोड तक सवा चार किमी. लंबाई के नाल