पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • ताप्ती के जल में श्रद्धालुओं ने लगाई आस्था की डुबकी

ताप्ती के जल में श्रद्धालुओं ने लगाई आस्था की डुबकी

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सूर्यपुत्रीमां ताप्ती के उद‌्गम स्थल पर गुरुवार को कार्तिक पूर्णिमा पर ताप्ती सरोवर में हजारों श्रद्धालुओं ने आस्था की डुबकी लगाई। सुबह 4 बजे से सरोवर में स्नान का दौर शुरू हो गया था। स्नान के बाद मंदिरों में पूजन के लिए दिनभर भक्तों की कतार लगी रही।

कार्तिक पूर्णिमा पर ताप्ती स्नान के लिए बुधवार रात से ही श्रद्धालुओं का ताप्ती तट पर पहुंचना शुरू हो गया था। सुबह शुभ मुहूर्त में लोगों ने स्नान करना शुरू किया। सरोवर के चारों ओर के घाटों पर श्रद्धालु स्नान करते नजर आए। धीरे-धीरे भीड़ लगातार बढ़ते जा रही थी। सुबह 11 बजे पैसेंजर ट्रेन आने के बाद दोबारा सरोवर पर स्नान करने वालों की भीड़ उमड़ी। शाम पांच बजे तक स्नान चलता रहा। मां ताप्ती के नए और प्राचीन ताप्ती मंदिर के साथ तपेश्वर मंदिर, जगदीश मंदिर, राम मंदिर और शनि मंदिर में भी भक्तों की भीड़ लगी रही।

अतिक्रमण हटाया

ताप्तीपरिक्रमा मार्ग पर लोगों ने दुकानों के सामने अस्थाई अतिक्रमण किया था। कुनबी मंगल भवन के सामने मार्ग पर दोपहिया वाहन भी खड़े कर दिए थे। दोपहर एक बजे एसडीएम ने अस्थाई अतिक्रमण और दोपहिया वाहनों को हटवाया।

ये थी व्यवस्था

नगरपालिका ने ताप्ती स्नान करने आई महिलाओं के लिए विशेष व्यवस्था की थी। महिला घाट पर कनात लगाई थी। परिक्रमा मार्ग पर कचरा हो इसके लिए नपा कर्मचारी सफाई कर रहे थे। दिन भर पुलिस बल भी तैनात रहा।

जगह-जगह श्रद्धालुओं को मिला भोजन

अलसुबह से ही ताप्ती परिक्रमा मार्ग पर अनेक स्थानों पर नि:शुल्क चाय और नाश्ते के स्टॉल लगे थे। राम मंदिर परिसर, गजानंद मंदिर के पास सहित अन्य स्थानों पर श्रद्धालुओं के लिए भंडारा प्रसादी रखी गई थी। दर्शन करने बाहर के श्रद्धालुओं को खाली पेट लौटने नहीं दिया।

कार्तिक पूर्णिमा पर सत्यनारायण भगवान की कथा सुनने का विशेष फल मिलता है। प्राचीन ताप्ती मंदिर में सुबह 10 बजे से सत्यनारायण की कथा कराने वालों की भीड़ लग गई। दिन भर दोनों मंदिरों में कथा होते रही।

मंदिरों में दिनभर हुई कथा

रात 12 बजे शुरू हुए भजन

ताप्तीसरोवर के तट पर स्थित मंदिरों में बुधवार रात 12 बजे से भजन का दौर शुरू हो गया था। नगर सहित ग्रामीण क्षेत्र से आई भजन मंडलियों ने पूरी रात भजन-कीर्तन किए। रात भर ताप्ती तट और मंदिरों में चहल-पहल बनी रही।

मुलताई|सरोवर घाटपर दिन भर स्नान के साथ पूजन का