पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • National
  • जय कन्हैया लाल के जयघोष के बीच जल विहार को नगर में निकले भगवान

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जय कन्हैया लाल के जयघोष के बीच जल विहार को नगर में निकले भगवान

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
डोल ग्यारस का पर्व सोमवार को श्रद्धा और भक्ति के साथ मनाया गया। इस अवसर पर मंदिरों से भगवान की प्रतिमाओं को विमानों में विराजित कर जलविहार को ले जाया गया। जगह-जगह लोगों ने पूजा-अर्चना करने के बाद आशीर्वाद लिया और प्रसादी ग्रहण की।

अखाड़ों के कलाकारों ने हैरतअंगेज करतब दिखाए तो उधर नगर के विभिन्न मंदिरों से डोल निकले, जो रात 9 बजे के बाद सीवन नदी पहुंचना शुरू हुए। इसके बाद विमान में सवार देवताओं की श्रद्धालुओं ने जगह-जगह पूजा-अर्चना की। देर रात तक लोग दर्शनों के लिए बड़ी संख्या में लोग चल समारोह मार्ग पर खड़े थे। डोल नगर के विभिन्न मंदिरों से निकाले गए। अखाड़े के कलाकारों ने चक्र युद्ध, भाला प्रदर्शन, तलवार बाजी का भी प्रदर्शन किया गया। सभी अखाड़ों का जगह-जगह स्वागत किया गया।

इन मंदिरों के डोल निकले

गाड़ी अड्डा स्थित श्री राम मंदिर, कोतवाली स्थित हरदौल मंदिर, बड़ियाखेड़ी स्थित राधेश्याम मंदिर, चरखा लाइन स्थित नृसिंह मंदिर, बड़ियाखेड़ी स्थित श्री रामकुईया मंदिर, गंज स्थित राधेश्याम मंदिर, गंज स्थित श्री राठौर मंदिर, लुनियापुरा स्थित लुनियापुरा राम मंदिर, गंज स्थित समाधिया मंदिर, कोली मोहल्ला, कुम्हार मोहल्ला, त्यागी धर्मशाला, बड़ियाखेड़ी स्थित गोकुल मंदिर, पोस्ट आफिस स्थित सोनी मंदिर सहित कई जगह डोल निकाले गए। इसी तरह मंडी और कस्बा में अलग डोल निकले।

बाल कृष्ण की आरती उतारी
इछावर। मंदिरों से बाल कृष्ण के विमान निकाले गए और तालाब में ले जाकर आरती उतारी गई। लौटते समय घरों के सामने महिलाओं ने विमान में बैठे भगवन कृष्ण की आरती उतारी और प्रसाद चढ़ाया। इसके बाद सभी विमान वापस आपने-अपने मंदिरों की ओर लौट गए।

डोल ग्यारस पर दिखा भक्ति का रंग

कालापीपल |
डोल ग्यारस पर भक्ति का रंग नजर आया। नगर में राममंदिर से डोल निकाला गया जो मुख्य मार्गों से होते हुए वापस राममंदिर पहुंचा। इस दौरान अखाड़े भी शामिल हुए।

भ्रमण पर निकले भगवान
श्यामपुर ,अहमदपुर , बरखेड़ा हसन, चरनाल सहित अन्य गांवों में डोल ग्यारस का पर्व चल समारोह निकाला गया। इसका जगह-जगह पुष्प वर्षा कर स्वागत किया। बिशनखेड़ी में राम मंदिर से भगवान सालगराम को डोल में सजाकर पूरे गांव का भ्रमण करवाया गया।

दौलतपुर | गांव में चल समारोह निकाला गया। इसमें दो विमान को शामिल हुए। तालाब पर विमानों की आरती उतारकर महाप्रसादी का वितरण किया गया। इसी प्रकार दुदलाई, आर्या, मूंडला, कालापीपल, खेरी, लसूड़िया, झरखेड़ा सहित आसपास पर्व मनाया गया।

अलीपुर में एकत्रित हुए डाेल, श्रद्धालुओं ने की पूजा

आष्टा |
नगर सहित ग्रामीण क्षेत्रों में डोल ग्यारस का पर्व हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। दोपहर में भगवान की पूजा अर्चना विधि-विधान से की गई। मंदिरों के डोल अलीपुर में एकत्रित हुए जिनकी श्रद्धालुओं ने पूजा-अर्चना की।

शोभायात्रा में महिलाओं ने की पूजा अर्चना
विमानों के नीचे से निकल कर की सुख की कामना

रेहटी |
नगर में 5 विमानों को आकर्षक साज सज्जा से सजाकर निकाला गया। विमान की पूजा अर्चना के बाद विमान के नीचे से निकलने की परंपरा वर्षों पुरानी है। राधाकृष्ण मंदिर से चंद्रवंशी खाती समाज का विमान विभिन्न रास्तों से होते हुए निकला।

बुधनी | बजरंग मंदिर से डोल ग्यारस पर्व का चल समारोह निकाला गया। समारोह मुख्य बाजार होते हुए बुधनीघाट स्थित नर्मदा घाट पर आरती के साथ हुआ।

नसरुल्लागंज | नगर के गांधी चौक छोटा बाजार में एक मंच पर रखे सभी विमानों की शाम को पूजा अर्चना कर महाआरती की गई व प्रसादी का वितरण किया गया। दोपहर बाद यहां मेले का आयोजन भी किया गया। रमगड़ा में प्राचीन मंदिर से पालकी शंखनाद, घंटी, ध्वजा के साथ निकली जो रुद्रधाम आश्रम पहुंची।

डोल ग्यारस पर निकाले गए डोलों की बड़ी संख्या में महिलाओं ने की पूजा अर्चना।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय निवेश जैसे किसी आर्थिक गतिविधि में व्यस्तता रहेगी। लंबे समय से चली आ रही किसी चिंता से भी राहत मिलेगी। घर के बड़े बुजुर्गों का मार्गदर्शन आपके लिए बहुत ही फायदेमंद तथा सकून दायक रहेगा। ...

    और पढ़ें