• Hindi News
  • National
  • दीपों से मां नर्मदा का श्रृंगार कर चुनरी चढ़ाकर दुग्धाभिषेक किया

दीपों से मां नर्मदा का श्रृंगार कर चुनरी चढ़ाकर दुग्धाभिषेक किया

6 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर संवाददाता | नसरुल्लागंज

नर्मदा जयंती के अवसर पर रविवार को क्षेत्र के प्रसिद्ध धार्मिक स्थल नीलकंठ पर दीपदान किया गया। इस दौरान नर्मदा तट पर मुख्य कार्यक्रम के दौरान हर-हर नर्मदे के जयकारे गूंजते रहे। नर्मदा के दूसरे तट पर भी उत्सव की छटा दिखाई दे रही थी। घाटों पर सुबह से ही उत्सवी माहौल था। घाट पर पंडित राजेश शर्मा ने मंत्रोचारण के साथ पूजा अर्चना, अभिषेक, नर्मदाष्टक और नर्मदा जी की सामूहिक की गई।

नगर व क्षेत्र में इस साल भी नर्मदा जयंती परंपरागत रूप से मनाई गई। जयंती अवसर पर नगर के गांधी चौक छोटा बाजार श्री राम मंदिर से दोपहर 12 बजे एक दंडवत व संकीर्तन यात्रा निकाली गई। इसमें बड़ी संख्या में महिला, पुरुष व कन्याओं ने भी भाग लिया। दंडवत यात्रा गांधी चौक छोटा बाजार से आरंभ होकर नगर के प्रमुख मार्गों से संकीर्तन करती हुई निकली। इसका नागरिकों एवं सामाजिक संगठनों ने पुष्प वर्षा से स्वागत किया। यात्रा क्षेत्र के धार्मिक स्थल नीलकंठ नर्मदा तट पर 8 किमी का रास्ता तय कर शाम 5 बजे पहुंची। यहां पर मां नर्मदा का श्रृंगार व पूजा अर्चना कर हजारों दीप प्रज्जवलित कर महाआरती की गई। इस अवसर पर नगर व क्षेत्र के बड़ी संख्या में महिला, पुरुष, कन्याएं व युवकगण उपस्थित थे।

सांस्कृतिक कार्यक्रम हुए
नर्मदा जयंती महोत्सव में दोपहर 2 बजे से मां नर्मदा के भजनों की प्रस्तुति, मुख्यातिथियों का स्वागत के साथ शाम 6 बजे से दीप दान एवं प्रसादी वितरण कार्यक्रम हुआ। कार्यक्रम में प्रमुख रूप खाती समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री चौधरी ने कहा कि खाती समाज का पूरा ध्यान अब पवित्र धाम आंवलीघाट पर रहेगा । इसमें पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष गजराज सिंह चौहान, रूपेश पटेल अध्यक्ष नगर पंचायत कोठरी, ठाकुर प्रसाद जिला अध्यक्ष खाती समाज, दिनेश भदौरिया, जुगल पटेल बायां सहित बड़ी संख्या में खाती समाज के युवा, महिला-पुरुष शामिल हुए।

आतिशबाजी भी की
नर्मदा में श्रद्धालुओं ने हजारों दीप प्रज्जवलित कर मां नर्मदा में प्रवाहित किए। यहां अद्भुत दीपों की रोशनी से श्रद्धालुगण मोहित हुए। दीपों का यह नजारा देखने के लिए देर रात तक श्रद्धालुओं की भीड़ लगी रही। इस अवसर पर नर्मदा में बीचों-बीच आतिशबाजी भी की गई।

नर्मदा जयंती पर सैकड़ो श्रृद्धालुओं ने नीलकंठ घाट तक की दंडवत् यात्रा।

15 किमी पैदल चलकर मां नर्मदा को 300 मीटर लंबी चुनरी चढ़ाई
खबरें और भी हैं...