पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • जाम से 4 किलोमीटर जाने के लिए घंटे भर रेंगते रहे वाहन

जाम से 4 किलोमीटर जाने के लिए घंटे भर रेंगते रहे वाहन

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
{नर्मदा स्नान के लिए घाटों पर रही भीड़

कार्यालयसंवाददाता|पिपरिया

कार्तिकपूर्णिमा पर्व पर गुरुवार को ग्राम सांडिया में नर्मदा स्नान और पूजन के लिए श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ी। अधिकांश लोग चार पहिया, दोपहिया और यात्री वाहनों से गांव पहुंचे। मेन रोड पर ही वाहन रेंगते हुए चल रहे थे। तेज धूप के बीच बुजुर्ग और बच्चे हलाकान हो गए। नर्मदा तट सांडिया से लगभग 4 किलोमीटर पहले से सीताराम मंदिर तक वाहनों की लंबी कतारें लगी थीं। वाहन रेंग रहे थे। लोग 4 किलोमीटर की यह दूरी लगभग 1 घंटे में तय कर पाए। अप्रत्याशित भीड़ से इंतजाम बौने साबित हो गए। पुलिस को ट्रेफिक कंट्रोल करने में भारी मशक्कत करनी पड़ी। भीड़ की खबर से अधिकारी भी जल्दी पहुंच गए थे। तहसीलदार डीएनसिंह एवं नायब सुशील कुमार मौके पर पहुंचे। सुबह 11 बजे से दोपहर 1 बजे तक इस इलाके में जाम की स्थिति बनी। लेकिन धीरे-धीरे स्थिति कंट्रोल में गई। अधिकारियों ने भी व्यवस्था बनाने के लिए तेजी से काम किए। वाहनों को कच्चे रास्ते से डायवर्ट भी किया गया। बड़े वाहनों खाली मैदानों में रोका गया। पुलिस स्टाफ ने व्यवस्थाएं संभालीं। गौरतलब है कि नर्मदा स्नान के लिए हजारों लोग बुधवार रात से पैदल सांडिया के रवाना हो गए थे। विभिन्न संगठनों और युवाओं ने श्रद्धालुओं के लिए नाश्ते और चाय के इंतजाम किए। नर्मदा घाटों पर मेला लगा था। छोटेे-छोट दुकानदारों ने यहां दुकानें सजाई थीं। एसडीएम गणेश जायसवाल इसकी मॉनीटरिंग करते रहे। उन्होंने अधिकारियों से इस बारे में पूछताछ की। सांडिया के सीताराम, बाजार घाट और सिवनी घाट पर श्रद्धालुओं ने नर्मदा स्नान और पूजन किए। सबसे ज्यादा भीड़ सांडिया के सीताराम घाट पर रही। यहां मां नर्मदा को प्रसन्न करन के लिए लोगों ने अनुष्ठान कराए। इसके अलावा लगभग 100 भंडारे भी हुए। बच्चों अौर युवाओं में भी खासा उत्साह नजर आया। नर्मदा घाटों पर सुबह 5 बजे से स्नान शुरू हो गया था। एक अनुमान के मुताबिक 70 हजार से ज्यादा लोगों ने स्नान किए। सिवनी घाटों पर भीड़ कम होने की वजह से अधिकांश लोग यहां भी स्नान के लिए पहुंचे। लोगों ने मां नर्मदा में दीप दान कर आरती की।









इसके अलावा ब्राह्मणों और गरीबों को दान किया। पुलिस के मुताबिक शाम 6 बजे तक नर्मदा तटों पर भीड़ रही। इधर शहर की जय माता दी समिति के सदस्यों ने 10 दिनों तक नर्मदा यात्रियों