पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • 151 कन्या पूजन, बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ का संकल्प

151 कन्या पूजन, बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ का संकल्प

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
महिला भक्त मंडल एवं महिला बाल विकास विभाग द्वारा शुक्रवार को नगाजी मंदिर में 151 कन्याओं का पूजन करने का कार्यक्रम रखा गया। कन्या पूजन के बाद वहां उपस्थित दो सौ लोगों ने बेटी बचाओ व बेटी पढ़ाओ का संकल्प सामूहिक रूप से लिया। पूजन के बाद आयोजकों ने सभी कन्याओं को दक्षिणा सहित उपहार भी भेंट किए गए। इस मौके पर नायब तहसीलदार ओपी श्रीवास्तव, जनपद सीईओ ईश्वर सिंह वर्मा, बीआरसी बिंदुसार सिंह तोमर प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

बेटी को मारोगे तो बहू कहां से लाओगे: कन्या पूजन कार्यक्रम के उपरांत मंदिर परिसर में बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान के तहत संगोष्ठी का आयोजन किया गया। पुजारी ने कहा कि अगर कोख में ही इस तरह बेटियां मरती रहीं तो लोगों को अपने पुत्रों का विवाह करना मुश्किल हो जाएगा।

अच्छी वर्षा व विश्व शांति के लिए हुई अखंड रामायण: संगोष्ठी के उपरांत नगाजी धाम स्थित बालाजी मंदिर में अच्छी वर्षा एवं विश्व शांति के उद्देश्य से सामूहिक रूप से संगीतमयी अखंड रामायण पाठ का आयोजन किया गया। इससे पूर्व पंडित देवीराम शास्त्री एवं राजेंद्र दास द्वारा हनुमानजी की पूजा-अर्चना कराई गई। इस अखंड रामायण पाठ में नगर के एक सैंकड़ा श्रद्धालु शामिल रहे।

कानून से नहीं सामाजिक सोच बदलनी होगी
संगोष्ठी के दौरान बीआरसी तोमर ने अपने उद्बोधन में कहा कि कानून के मुताबिक लिंग जांच कराना अपराध है। लिंग जांच कराते पाए जाने पर संबंधित डॉक्टर एवं माता-पिता के खिलाफ पीसीपीएनडीटी एक्ट के तहत कार्रवाई करने का प्रावधान है। लेकिन जांच कराने वाले माता-पिता एवं डॉक्टर दोनों की मिली भगत होने के कारण ऐसे मामले प्रकाश में नहीं आ पाते। इसलिए जरूरी है समाज की सोच बदलने के प्रति लोगों को व्यापक स्तर पर जागरूक किया जाए। क्योंकि लिंग जांच व कन्या भ्रूणहत्या जैसे जघन्य अपराध को रोकने में कानून सहायक हो सकता है, लेकिन सामाजिक सोच बदलने से इसे पूर्ण नियंत्रित किया जा सकता है।

बेटी बचाओ का संकल्पव लेते नगर के गणमान्य नागरिक।

आयोजन
खबरें और भी हैं...