पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • 36 हजार के गेहूं का एक लाख रु. दिया किराया, सड़ने पर फेंक दिया

36 हजार के गेहूं का एक लाख रु. दिया किराया, सड़ने पर फेंक दिया

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
राष्ट्रीय स्तर पर निकाले गए टेंडर से भारत कैंटल सीड ने खरीदा था 36 हजार रुपए में

भास्कर संवाददाता | रायसेन

गैरतगंज में वार्ड 6 स्थित श्मशान घाट के पास सड़ा हुआ गेहूं फेंकने के मामले में नई-नई बातें सामने आ रही हैं। यहां सड़े हुए गेहूं के एवज में जिला आपूर्ति निगम विपणन संघ को सालों से किराया चुकाता रहा।

सरकारी पैसे को किस तरह उड़ाया जाता है। यह गैरतगंज में सड़े गेहूं वाले मामले से आप बखूबी जान सकते हैं। वह इसलिए की 145.40 क्विंटल सड़े गेहूं को विपणन संघ की गैरतगंज गोडाउन में रखने के बदले किराए का भुगतान भी किया गया। विपणन संघ के मुताबिक एक महीने में प्रति क्विंटल 11.40 रुपए किराया लिया जाता है। इस हिसाब से 145 क्विंटल गेहूं का एक महीने में किराया1657.56रुपए,एक साल में 19 हजार 890 और छह साल में 1 लाख 19हजार 884 रुपए किराया बनता है। इसमें से अभी जनवरी का बिल जारी किया जाना शेष है। यह बिल हर महीने जारी कर विपणन संघ किराया वसूल करता है। विपणन संघ के मुताबिक करीब एक लाख रुपए किराया चुकाया जाने की जानकारी दी गई है।

खबरें और भी हैं...