पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • अरूचि | 2 हजार युवाओं को रोजगार देने का था दावा, गिने चुने ही पहुंचे मेले में

अरूचि | 2 हजार युवाओं को रोजगार देने का था दावा, गिने-चुने ही पहुंचे मेले में

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
मेले में नहीं मिला रोजगार

शासकीयचंद्रशेखर आजाद पीजी कॉलेज में गुरुवार को रोजगार मेला आयोजित किया गया। जिला पंचायत एवं जिला रोजगार कार्यालय द्वारा आयोजित इस रोजगार मेले में गिने-चुने लोग ही रोजगार की चाह में पहुंचे। सलकनपुर में आयोजित रोजगार मेले में भी ऐसे ही हाल रहे। हालांकि दोनों जगह के रोजगार मेले में करीब 2 हजार लोगों को रोजगार उपलब्ध कराने की बात जिम्मेदार कर रहे थे। लेकिन गुरुवार को सीहोर में 232 और सलकनपुर में 138 युवाओं का ही चयन किया गया।

शुभारंभ समारोह में शासकीय अधिकारी-कर्मचारियों की भीड़ दिखाई दे रही थी। शुभारंभ समारोह के बाद रोजगार मेले में सन्नाटा पसरा रहा। मेले में जो युवा आए उन्हें संतोषप्रद नौकरी के विकल्प मिलने पर वापस लौट गए। क्योंकि जिन कंपनियों के प्रतिनिधि रोजगार मेले में आए थे वे उम्मीद से कम वेतन दे रहे थे। कई युवक-युवती रोजगार मेले से वापस लौट गए। मेले में करीब डेढ़ दर्जन कंपनियों के स्टॉल लगाए गए थे। जिला रोजगार अधिकारी विजेंद्र बिजोलिया ने बताया कि गुरुवार को सीहोर के पीजी कॉलेज में आयोजित रोजगार मेले में सीहोर, आष्टा, इछावर के कुल 286 युवक-युवतीयों का पंजीयन किया गया। इनमें से 232 का चयन किया गया। सलकनपुर में रोजगार मेले में बुदनी और नसरुल्लागंज के 157 युवक-युवतियों का पंजीयन हुआ। इनमें से मात्र 138 युवक-युवतियों का चयन हुआ।

इसलिए नहीं ले रहे रुचि

जिलेसे लगे हुए ग्रामीण क्षेत्रों के युवाओं के यहां खेती होने और व्यापार से जुड़े होने के कारण रोजगार मेलों में रूचि नहीं ली जा रही है। साथ ही कम वेतन मिलने और दूसरे प्रदेश में नौकरी मिलने के कारण वह सिर्फ मेले में अपने मन माफिक कंपनी चाहते हैं। ऐसे में वह रोजगार मेले में या तो शामिल नहीं हो रहे हैं या फिर आकर सिर्फ मेले को देखकर लौट जाते हैं।

वेतन की समस्या

रोजगारमेले में अपना भाग्य आजमाने युवाओं का कहना है कि बीई और एमबीए की पढ़ाई के बाद रोजगार मेले में उन्हें जो अवसर दिए जा रहे थे उनमें उन्हें 10 से 12 हजार रुपए तक ही वेतन दिया जा रहा था। वह भी नौकरी दूर जाकर करना पड़ेगी। पिछले 2 वर्ष से रोजगार मेले में शामिल हो रहे जितेंद्र दांगी का कहना है कि अभी तक जिला रोजगार कार्यालय ने एक भी ऐसी कंपनी नहीं बुलाई है, जो नेश्नल स्तर पर कार्य कर रही हो और बेरोजगारों को अच्छा पैकेज दे रही हो