पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लाइन में लीकेज का झंझट

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सालोंपुरानी पानी की सप्लाई लाइन में हो रहे लीकेज अब परेशानी का सबब बन चुके हैं। नगर पालिका का अमला भी इन्हें ठीक करते-करते पस्त हो गया है। एक के बाद एक लीकेज होते चले जाते हैं और हर रोज सैकड़ों लीटर पानी बर्बाद हो जाता है। जब तक इस पूरी लाइन को बदला नहीं जाता तब तक इस समस्या का समाधान नहीं हो सकता है।

नगर में पार्वती योजना के तहत लोगों को पेयजल मुहैया कराने के लिए करीब 30 साल पहले सप्लाई लाइन नगर में डाली गई थी। अब यह लाइन काफी पुरानी हो चुकी है। इस कारण हालत यह है कि आए दिन यह लाइन जगह-जगह से फूट जाती है। लाइन के फूट जाने से हर रोज हजारों लीटर पानी बर्बाद हो जाता है।

नगर पालिका का अमला इस लाइन को सुधारने का काम करता है लेकिन इसके बाद भी समस्या का समाधान नहीं हो पाता है। नगर में वैसे ही पानी का संकट बना रहता है। जब हर रोज लीकेज होते हैं तो इनसे काफी पानी रिसाब होकर बह जाता है। इससे संकट और बढ़ जाता है।

इस तरह आए दिन सड़कों के किनारे लाइन डालने के लिए नालियां तो खोदी जाती हैं लेकिन इस बीच कई जगह से पानी की लाइन फूट जाती हैं।

खबरें और भी हैं...