पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • ग्वालियर व चंबल संभाग में फसल प्रभावित, 250 करोड़ का नुकसान

ग्वालियर व चंबल संभाग में फसल प्रभावित, 250 करोड़ का नुकसान

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
117 लाख हेक्टेयर में बोई रबी की फसल, सरकार ने आश्वासन दिया- जल्द दी जाएगी राहत

एग्रो भास्कर | खंडवा

मध्यप्रदेश सरकार ओलावृष्टि से प्रभावित जिलों में नुकसान का सर्वे करा रही है। प्रभावित किसानों को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत राहत दिलाई जाएगी। ग्वालियर-चंबल संभाग ज्यादा प्रभावित हुआ है। शेष संभागों में स्थिति सामान्य है। प्रारंभिक आकलन में 250 करोड़ रुपए की फसल नुकसान होने का अनुमान है।

मप्र के ग्वालियर, मुरैना, भिंड, दतिया, शिवपुरी, मंदसौर, नीमच, सीहोर, अशोक नगर के 294 गांव में ओलावृष्टि हुई है। इन जिलों में बेर के आकार के ओले गिरे हैं। इससे गेहूं, चना, सरसों एवं मसूर की फसलें प्रभावित हुई है। भोपाल, होशंगाबाद, गुना, श्योपुरकलां, इंदौर, खंडवा, रतलाम, शाजापुर, रीवा, सीधी, सागर, छतरपुर, जबलपुर, दमोह, सतना और बुरहानपुर जिले में बारिश तथा कहीं-कहीं ओले गिरे हैं। योजना के क्रियान्वयन एवं मॉनीटरिंग के लिए राज्य स्तर पर फसल बीमा समन्वय समिति के अध्यक्ष कृषि उत्पादन आयुक्त तथा जिला स्तर पर अध्यक्ष कलेक्टर है। फसलों का बीमा पटवारी हल्का स्तर एवं तहसील स्तर पर किया।

बारिश से गेहूं को फायदा-वैज्ञानिक
मप्र में इस साल 117.8 लाख हेक्टेयर में रबी की फसलें बोई है। गेहूं की बोवनी 61.80 लाख हेक्टेयर और चना 32.52 लाख हेक्टेयर में की गई है। विशेषज्ञों का मानना है बारिश से गेहूं की खड़ी फसल को लाभ होगा। वहीं, ओला से फसलें खराब होगी।

खबरें और भी हैं...