• Hindi News
  • अध्यापक समर्पण से काम करें तो सुधर जाएगी शिक्षा: दर्शन चौधरी

अध्यापक समर्पण से काम करें तो सुधर जाएगी शिक्षा: दर्शन चौधरी

6 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
अगर अध्यापक शिक्षा के स्तर को सुधारने के लिए समर्पण से काम करें तो विद्यार्थियों का स्तर उत्कृष्ट होगा। इससे उनका स्तर निजी स्कूलों में पढ़ाई करने वाले विद्यार्थियों से भी अच्छा हो सकता है। इस तरह से गांवों में बच्चों को बेहतर शिक्षा मिल सकती है।

यह बातें राज्य अध्यापक संघ के प्रांतीय महासचिव दर्शन चौधरी ने रविवार को शहर के आवासीय खेलकूद संस्थान में आयोजित सम्मेलन में कहीं। सम्मेलन को संबोधित करते हुए श्री चौधरी ने कहा कि क्रांति यात्रा शिक्षा के निजी करण को बंद कराने के लिए 20 जिलों में यात्रा की जा चुकी है।

इस यात्रा के 21वें जिले सीहोर में सम्मेलन आयोजित कर प्रदेश में शिक्षा पर निजीकरण पर अंकुश लगाने के लिए रविवार को चर्चा की गई। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कई निजी स्कूल एवं कालेज संचालित किए जा रहे हैं। इससे सरकारी स्कूल व कालेजों में शिक्षा में सुधार के लिए सरकार कोई ठोस कदम नहीं उठा रही है। प्रदेश अध्यक्ष जगदीश यादव ने बताया कि अध्यापक संघ अपनी कई मांगों पर रोक लगा सकता है, लेकिन उसके लिए जरूरी है कि राज नेताओं के बच्चे भी सरकारी स्कूलों में प्रवेश लेकर पढ़ाई करें। उन्होंने कहा कि कई निजी संस्थानों के खुलने से शिक्षा व्यवसाय बनता जा रहा है।

बढ़ गई बेरोजगारों की संख्या
कार्यक्रम के दौरान शिक्षा को लेकर चर्चा की गई। इसमें एज्यूकेशन का स्तर ठीक नहीं होने से शिक्षित बेरोजगारों की संख्या बढ़ने की बात कही गई। प्रदेश में उच्च शिक्षित युवाओं की संख्या पिछले पांच सालों में सबसे अधिक बढ़ी है। इसमें सबसे अधिक युवा बेरोजगार हैं। उनके पास कोई रोजगार के अवसर नहीं हैं।

रविवार को अध्यापक संघ के कार्यक्रम शमिल हुए अध्यापक।