पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • शराब की दुकानें 55 करोड़ में नीलाम

शराब की दुकानें 55 करोड़ में नीलाम

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सबसे महंगा 12 करोड़ 88 लाख में बिका श्योपुर का शराब ठेका

भास्करसंवाददाता|श्योपुर

वर्ष2015-16 के लिए जिले में शराब ठेकों का आवंटन टेंडर पद्धति के जरिए शुक्रवार को कलेक्टोरेट में प्रशासन और पुलिस अफसरों की मौजूदगी में किया गया। इसमें सबसे अधिक कीमत पर श्योपुर का देशी शराब का ठेका 12 करोड़ 88 लाख रुपए में बिका। खास बात यह है कि पिछले वर्ष 23 करोड़ 98 लाख रुपए में नीलाम हुए जिले के सभी 10 ग्रुप ठेके इस बार करीब 55 करोड़ में बिके हैं। इससे शराब की कीमतें भी बढऩे का अनुमान है। हालांकि इस नीलामी से आबकारी विभाग को सौ फीसदी अधिक राजस्व मिलने की उम्मीद है।

कलेक्टोरेट सभाकक्ष में कलेक्टर धनंजय सिंह , एसपी जितेंद्र सिंह कुशवाह, जिला पंचायत सीईओ एचपी वर्मा की मौजूदगी में हुई शराब ठेकों की टेंडर प्रक्रिया में ठेकेदारों ने बढ़चढ़ कर हिस्सा लिया। इसमें टेंडर बॉक्स में टेंडर डालने के अलावा ऑनलाइन टेंडर भी भरे गए। यह सभी अफसरों एवं ठेकेदारों की मौजूदगी में खोले गए। सूत्रों का कहना है कि श्योपुर का शराब ग्रुप नंबर एक 12 करोड़ 88 लाख में राजेंद्र कुमार राय के नाम आवंटित किया गया है।

इसी प्रकार श्योपुर नंबर दो ग्रुप 5 करोड़ 44 लाख 44 हजार 444 में विनोद सिकरवार , बड़ौदा 7 करोड़ 21 लाख 21 हजार 121 में ओमप्रकाश शिवहरे , ओछापुरा 2 करोड़ 27 लाख में रामस्वरूप शिवहरे, प्रेमसर 3 करोड़ 33 लाख 89 हजार 555 में गुरमुख सिंह सिख, पांडोला ग्रुप 2 करोड़ 24 लाख 24 हजार 240 में राजेश शिवहरे, विजयपुर ग्रुप 7 करोड़ 7 लाख 6 हजार 666 में मोहन शिवहरे, बीरपुर ग्रुप 5 करोड़ 2 लाख 53 हजार में मोहन शिवहरे, सहसराम गुप्र 2 करोड़ में महेश शर्मा और ढोढर ग्रुप जोगेंद्र सिंह के नाम 3 करोड़ 44 लाख 44 हजार 444 में आवंटित किया गया है।

आबकारी विभाग से जुड़े सूत्रों के अनुसार पिछले वर्ष यह सभी ठेके कुल 23 करोड़ 98 लाख 224 रुपए में नीलाम हुए थे। जिस पर करीब 15 फीसदी राशि की बढ़ोतरी कर विभाग ने टेंडर बुलाए थे। लेकिन इस बार शराब ठेकेदारों के बीच जबर्दस्त प्रतिस्पर्धा होने के कारण दोगुने से भी अधिक कीमत में ठेकों का आवंटन हुआ है। यह सभी ठेके एक अप्रैल से अस्तित्व में आएंगे।

शराब ठेकों के टेंडर की प्रक्रिया के दौरान मौजूद कलेक्टर अफसर।