पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • बाबा विश्वनाथ का किया अभिषेक

बाबा विश्वनाथ का किया अभिषेक

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कार्तिकपूर्णिमा के अवसर पर गुरुवार को क्षेत्र के प्रमुख तीर्थ देवपुर में अपार जनसैलाब उमड़ा। भक्तों ने यहां के पवित्र जलकुंड में स्नान कर बाबा विश्वनाथ का जलाभिषेक किया। देर रात तक भक्तों का सैलाब तीर्थ क्षेत्र में दिखाई दिया। इस अवसर पर आयोजित मेले का भी लोगों ने आनंद उठाया।।

आरोन रोड पर स्थित क्षेत्र के प्रमुख तीर्थ देवपुर में कार्तिक माह में हर दिन बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंच रहे थे। गुरुवार को कार्तिक पूर्णिमा पर धर्मलाभ लेेने के लिए श्रद्धालुओं का उत्साह बुधवार से ही दिखाई देने लगा था। बड़ी संख्या में श्रद्धालु झंडा लेकर कीर्तन करते हुए पैदल ही सपरिवार रात में ही देवपुर पहुुंच गए थे। गुरुवार को भी अलसुबह से ही यहां स्थित पवित्र जलकुंड में स्नान के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ लगने लगी थी। सुबह आठ बजे के बाद श्रद्धालुओं की संख्या में और अधिक इजाफा होता दिखाई दिया।

हजारों की संख्या में श्रद्धालु बाबा के दरबार में धर्मलाभ लेेने पहुंच रहे थे। श्रद्धालुओं ने पवित्र जलकुंड के जल से स्नान कर कतार में लगकर बाबा विश्वनाथ का जलाभिषेक किया। श्रद्धालुओं ने दूध, दही, बिल्व पत्र और धतूरे से बाबा का पूजन भी किया। बाबा के पूजन के उपरांत भक्त यहां स्थित रामजानकी मंदिर, राधाकृष्ण मंदिर, लक्ष्मीनारायण मंदिर, माता मंदिर तथा लवकुश मंदिर मेंं भी दर्शन के लिए पहुंचे। बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने मंदिर परिसर में ही कथा का आयोजन भी किया।

तुलसीपूजन कर किया दीपदान: मंदिरोंमें पूजन और दर्शन के बाद महिलाओं और युवतियों ने तीर्थ क्षेत्र में ही तुलसी पूजन किया। बड़ी संख्या में महिलाओं ने तुलसी कथा का वाचन भी किया। पूजन और परिक्रमा के उपरांत वे समूह के रूप में जलकुंड पर पहुंचीं। यहां पर उन्होंने कतारबद्ध होकर दीपदान का पुण्य लाभ भी लिया। दीपदान का क्रम देर शाम तक चलता रहा।

दिनभर चली खरीदारी

इसअवसर पर तीर्थ क्षेत्र में ग्राम पंचायत द्वारा मेले का आयोजन भी किया गया। मेले में दिन भर खरीदारी का दौर चलता दिखाई दिया। सबसे ज्यादा भीड़ गृहस्थी से जुड़ी सामाग्री, बच्चों के खिलौने, सौंदर्य प्रसाधन तथा कपड़ों की दुकान पर रही। सिरोंज के साथ ही बड़ी संख्या में कुरवाई, बासौदा, लटेरी तथा आरोन के दुकानदार भी दुकान लेकर पहुंचे थे।

नई व्यवस्था से हुई आसानी

मंदिरप्रबंधन समिति तथा पुलिस प्रशास